जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : निट में 20 जुलाई से दिव्यांग विद्यार्थियों के लिए राष्ट्रीय स्तर की ग्लोबल आइटी चैलेंज प्रतियोगिता आयोजित होगी। दो दिन तक चलने वाली यह प्रतियोगिता निट के दिव्यांग सशक्तीकरण विभाग ने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय के सहयोग से आयोजित होगी, जिसमें भारत के अनेक हिस्सों से ²ष्टिहीन, बधिर, बौद्धिक व शारीरिक रूप से दिव्यांग चार श्रेणियों वाले प्रतिभागी अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगे।

कार्यक्रम के चेयरमैन व संस्थान के डीन प्रोफेसर सतहंस ने बताया कि इस अंतर्राष्ट्रीय अभियान का मुख्य उद्देश्य यूथ विद डिसेबिलिटी को सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में समानता का अवसर प्रदान करना है। संस्थान में आयोजित इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य ग्लोबल आईटी चैलेंज 2017 के लिए इंडिया के प्रतिनिधि प्रतिभागियों का चुनाव करना है। कार्यक्रम के संयोजक प्रोफेसर आशुतोष कुमार ¨सह ने बताया कि कार्यक्रम का शुभारंभ संस्थान के निदेशक डॉ. सतीश कुमार द्वारा दीप प्रज्वलन के साथ किया जाएगा।

प्रत्येक श्रेणी से विजेता प्रतिभागी को ग्लोबल आईटी चैलेंज 2017 प्रतियोगिता में भाग लेकर भारत की ओर से प्रतिनिधित्व करने का अवसर मिलेगा, जोकि हनोई, वियतनाम में सितंबर 2017 में आयोजित की जाएगी। यह प्रतियोगिता दिव्यांग छात्रों व व्यक्तियों के पुनर्वास के लिए कोरियाई सोसायटी, एशिया व प्रशांत-महासागर के लिए संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक आयोग (यूएनइएससीएपी) के सहयोग द्वारा आयोजित की जाती है। उन्होंने बताया कि संस्थान में पिछले वर्ष ग्लोबल आईटी चैलेंज 2016 के लिए भी 19-20 जुलाई को इस प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था, जिसमें से विजेता प्रतिभागियों ने चीन के जियांग्सू में भारत का प्रतिनिधित्व किया था और चयनित प्रतिभागियों के उत्कृष्ट प्रदर्शन ने भारत की झोली में 1 स्वर्ण, 1 रजत व 2 कांस्य पदकों के साथ सुपर चैलेंजर्स स्पेशल पदक प्राप्त किए थे। ऐसे प्रतिभागियों को भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने विज्ञान भवन दिल्ली में सम्मानित भी किया था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस