जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : रोडवेज अनुसूचित जाति कर्मचारी संघर्ष समिति हरियाणा के राज्य प्रतिनिधियों का परिवहन मंत्री की अध्यक्षता में चंडीगढ़ में हुई बैठक में कर्मचारी नेताओं को अनदेखा करने पर रोष जताया है। उनका कहना है कि अधिकारियों की अनदेखी के चलते समिति के कर्मचारियों ने बैठक का बहिष्कार कर दिया और हरियाणा निवास में राज्य परिवहन के निदेशक के विरोध में आक्रोश प्रकट करते हुए नारेबाजी की।

रोडवेज अनुसूचित जाति कर्मचारी संघर्ष समिति रोडवेज डिपो सचिव गुरदास सिरोही ने बताया कि परिवहन विभाग के निदेशक और तमाम यूनियनों के प्रतिनिधियों की चंडीगढ़ में सोमवार को बैठक थी। परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा की अध्यक्षता में बैठक थी। बैठक में यूनियन के पदाधिकारियों ने अपनी संवैधानिक मांगों को मंत्री व अधिकारियों के समक्ष रखा तो एससी कर्मचारियों की मांगे सुनने से पूर्व ही निदेश ने यूनियन प्रतिनिधियों को जातीय तौर पर भरी सभा में अपमानित किया और बैठक से बाहर निकल जाने को कहा। आरोप है कि एससी कर्मचारियों को आगे से बैठक में नहीं बुलाने तक की बात कह दी। है। जिसको लेकर कर्मचारियों में भारी रोष है। समिति ने निर्णय लिया कि चंडीगढ़ सेक्टर-नौ में पुलिस अधीक्षक को निदेशक के विरुद्ध अनुसूचित जाति जनजाति उत्पीड़न अधिनियम 1989 के तहत जातीय तौर पर उत्पीड़न एवं जातीय तौर पर अपमानित करने बारे मुकदमा दर्ज करवाया जाएगा। वहीं आयोग में भी शिकायत दर्ज कराई जाएगी।

ये रहे मौजूद

इस मौके पर संगठन के राज्य कोषाध्यक्ष दलबीर सिंह, आडिटर राजीव रंगा, गुरदास सिरोही, संयुक्त महासचिव विजय कुमार, सतीश कुमार, संजीव फूले, विकास सरोहा व जय कुमार मौजूद रहे।

Edited By: Jagran