संवाद सहयोगी, लाडवा : आंतकी संगठन बब्बर खालसा इंटरनेशनल के साथ लाडवा खंड के गांव निवारसी के रूपिद्र सिंह उर्फ राजू का नाम आने से ग्रामीण भी अचंभित हैं। कपड़े की दुकान पर सेल्समैन का काम करने वाले रूपिद्र का साधारण सा परिवार है। परिवार में गरीबी है और मजदूरी करके घर का खर्च चल रहा था। पांच दिन पहले गांव से गायब हुए रूपिद्र के बारे में कोई नहीं जानता। इसकी तलाश में पुलिस व खुफिया तंत्र सरगर्मी से जुटा हुआ है, लेकिन उसका कोई सुराग नहीं लग पा रहा। परिजनों का कहना है कि पिछले पांच दिन से उनका रूपिद्र के साथ कोई संपर्क नहीं हुआ।

गांव निवारसी निवासी रूपिद्र अपने माता-पिता के साथ गांव में ही रहता था और लाडवा में कपड़े की दुकान पर सेल्समैन का काम करता था। उसके पिता गांव में आटा चक्की लगाते हैं। परिवार में गरीबी है, मजदूरी करके ही घर का खर्च चल रहा है। रुपिद्र सिंह दो भाई व दो बहनें हैं। दोनों बहनों की शादी हो चुकी है और उसका भाई पिछले वर्ष ही मलेशिया से आया है। उसके पिता जोगिद्र सिंह व माता हरदीप कौर ने बताया कि वह किसी संगठन से जुड़ा हुआ नहीं है, बल्कि उसे फंसाया जा रहा है। वह तो लाडवा में कपड़े की दुकान पर सेल्समैन का काम करता था। प्रतिदिन सुबह गांव के गुरुद्वारे में पाठ करना उसकी दिनचर्या थी। यहीं नहीं गांव वासी भी उसे नेक शरीफ व मिलनसार बताते हैं। उन्होंने बताया कि वह हर महीने छुट्टी लेकर अमृतसर गुरुद्वारे में जरूर जाता था। शनिवार को भी वह दुकान से छुट्टी लेकर गया था, लेकिन वापस नहीं लौटा। रुपिद्र सिंह उर्फ राजू से आंतकी संगठन बब्बर खालसा इंटरनेशनल के तारे जुड़े होने की खबर से क्षेत्र में दहशत का माहौल है।

गौरतलब है कि गांव निवारसी के रुपिद्र सिंह का नाम उन आठ लोगों में शामिल है, जिनके खिलाफ मोहाली में बब्बर खालसा और कश्मीर के आंतकी संगठनों से जुड़े होने का मामला दर्ज है। मोहाली स्टेट स्पेशल ऑपरेशन सेल ने खालिस्तानी आतंकी संगठन बब्बर खालसा के पांच सदस्य को शनिवार रात गिरफ्तार किया था तथा एक आरोपित को बाद में गिरफ्तार किया था। अभी भी दो आरोपित फरार हैं, जिनमें रुपिद्र सिंह उर्फ राजू का नाम भी शामिल है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप