पिपली (कुरुक्षेत्र), जेएनएन। जम्‍मू-कश्‍मीर के पुलवामा में अातंकी हमले का असर नई दिल्‍ली अौर लाहौर के बीच चलने वाली सदा-ए-सरहद बस पर भी पड़ा है। इस बस से पाकिस्तान जाने वाले यात्रियों की संख्या घटनी शुरू हो गई है। मंगलवार को पाकिस्तान जाने वाली सदा-ए-सरहद बस को कोई यात्री नहीं मिला।

दिल्ली से सुबह कड़ी सुरक्षा के बीच लाहौर के लिए चली बस तकरीबन आठ बजे पिपली पैराकीट मोटल में पहुंची। बस की सुरक्षा के लिए पैराकीट मोटल पर चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात थी। वहीं गुप्तचर कर्मी व सुरक्षा दस्ते के कर्मचारी पैनी नजर रखे हुए थे। अधिकारियों को पल-पल की खबर दी जा रही थी। बस ठहराव के दौरान किसी भी बाहरी यात्री व पर्यटक को पैराकीट मोटल के रेस्टोरेंट में घुसने नहीं दिया गया। सोमवार सायं दिल्ली पहुंची बस अमृतसर बाघा बार्डर से ही रिजर्व बल के पहरे में ही रवाना हुई थी।

हरियाणा-पंजाब के बार्डर पर अंबाला पहुंचने पर बस की सुरक्षा और बढ़ा दी गई थी। अंबाला से रिजर्व बल के पहरे में बस रवाना हुई, मगर लोगों के आक्रोश को देखते हुए बस का पिपली पैराकीट में ठहराव करने की बजाय उसे सीधा फ्लाई ओवर से निकाला गया। बस में कोई यात्री नहीं था और उसमें केवल उसके स्टाफ थे। मंगलवार सुबह दिल्ली से लाहौर के लिए रवाना हुई सदा-ए-सरहद बस में पाकिस्तान जाने वाला कोई यात्री नहीं था।

सूत्रों के अनुसार बस में केवल पांच से सात लोग बस में थे। ये सभी बस स्टाफ व सुरक्षा कर्मी थे। पैराकीट में कड़ी सुरक्षा के बीच बस का ठहराव हुआ। बस के पैराकीट में आते ही चौकसी बढ़ा दी गई। करीब आधा घंटा बस पैराकीट में रूकी। बस का ठहराव के दौरान सुरक्षा एजेंसियों की सांसें फूली रही।

दिल्ली जाने वाली बस में सवार थे सात यात्री

दूसरी ओर, लाहौर से दिल्ली के लिए चली सदा-ए-सरहद बस तीन बजे पैराकीट मोटल में पहुंची। पैराकीट में सोमवार को विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल व अन्य राजनीतिक दलों के विरोध के चलते बस को पैराकीट में ठहराव न कर इसे सीधा दिल्ली के लिए निकाल दिया गया था। सूत्रों के अनुसार बस में पाकिस्तान से दिल्ली जाने वाले पांच से सात लोग सवार थे। पुलिस ने सुरक्षा के लिहाज से कड़े प्रबंध किए हुए थे।

हरियाणा में दाखिल होते ही बस की सुरक्षा के लिए रिजर्व पुलिस बल की गाड़ी व दो पायलट गाड़ियां आगे पीछे चल रही थीं। सुरक्षा व्यवस्था रही कड़ी सदर थाना प्रभारी सुरेश ने बताया कि पिपली पैराकीट से लेकर बस के साथ सुरक्षा व्यवस्था कड़ी रही। सामान्य तौर पर चलने वाली पायलट के साथ अतिरिक्त रिजर्व बल भी साथ रहा।

उन्होंने इस बात की पुष्टि की, कि मंगलवार को लाहौर जाने वाली बस में कोई यात्री नहीं था, केवल बस स्टाफ व सुरक्षा कर्मी ही थे। पुलिस प्रशासन की ओर से बस की सुरक्षा के लिए इंस्पेक्टर रैंक के छह पुलिस अधिकारी व काफी संख्या में पुलिस जवान पैराकीट में चप्पे चप्पे पर तैनात थे।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप