विनोद चौधरी, कुरुक्षेत्र : आम लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर लंबी चली आचार संहिता से जिले के कई विकास कार्य रुके पड़े हैं। अब आचार संहिता समाप्त होते ही करोड़ों रुपये के विकास कार्यों को गति मिलेगी। आचार संहिता के फेर में अधिकारियों के साथ-साथ राजनेताओं के भी कई प्रपोजल फाइलों में ही लटक गए थे। 57 करोड़ रुपये की लागत से शहर की जीवन रेखा मानी जाने वाली मुख्य सड़क के लिए नए टेंडर जारी होंगे, वहीं कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड को सात करोड़ रुपये की लागत से मिलने वाली कई मशीनों भी उपलब्ध होंगी। अब सरकार के साथ-साथ प्रशासन का इस बात पर फोकस रहेगा कि इस तरह की योजनाओं को हर हाल में विधानसभा चुनावों से पहले पूरा कर लिया जाए। चुनाव आयोग की ओर से लोकसभा चुनाव के लिए 11 मार्च को प्रेस कांफ्रेस बुलाकर 27 मई तक आचार संहिता लगाई थी। बाक्स

आचार संहिता से पहले ही काम छोड़ भागा ठेकेदार, अब दोबारा जारी होगा टेंडर धर्मनगरी की जीवन रेखा माने जाने वाले गुलजारी लाल नंदा मार्ग को छह लेन करने का कार्य अक्टूबर 2018 में शुरू किया गया था। लगभग 57 करोड़ रुपये की लागत से तैयार होने वाली इस सड़क पर जोर-शोर से काम चल रहा था, लेकिन आचार संहिता लागू होने से पहले ही ठेकेदार काम बीच में छोड़कर चला गया। नियमानुसार अधिकारियों ने दो माह तक ठेकेदार का इंतजार करने के बाद ठेका रद करने की प्रक्रिया शुरू कर दी। सड़क का काम अधर में लटका पड़ा है। सड़क का निर्माण दिसंबर 2019 तक पूरा हो जाना था, लेकिन अब दोबारा टेंडर लगाना पड़ेगा। आचार संहिता समाप्त होते ही इस महत्वपूर्ण योजना पर काम शुरू हो सकता है। बाक्स

केडीबी को मिलेंगी सात करोड़ रुपये की नई मशीनें केंद्र और प्रदेश सरकार कुरुक्षेत्र को धार्मिक पर्यटन के रूप में विकसित करने की योजना पर काम कर रही है। अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों को कुरुक्षेत्र तक लेकर आने के लिए कई तरह के बड़े प्रोजेक्टों पर काम चल रहा है। इसी कड़ी में कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड और पावर ग्रीड के बीच एमओयू हुआ है। इस एमओयू के तहत सात करोड़ 26 लाख रुपये ब्रह्मसरोवर की स्वच्छता और सुंदरता पर खर्च किए जाने हैं। केडीबी को ब्रह्मसरोवर की सफाई करने के लिए चार अलग-अलग तरह की आठ अत्याधुनिक मशीनें उपलब्ध कराई जानी हैं। आचार संहिता समाप्त होते ही इन मशीनों की खरीद की जाएगी। बाक्स

कई योजनाओं में बनी अड़चन

इसके अलावा भी आचार संहिता कई योजनाओं में भी अड़चन बनी हुई है। आचार संहिता लागू होने से ठीक पहले केंद्र सरकार की ओर से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना लागू की गई थी, इसके बाद आचार संहिता लागू होने पर कई कार्यालयों में इस पर काम रोक दिया गया। इसके अलावा एक महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट सरकारी अस्पताल में तैयार हुआ नया भवन और गांव पलवल में बनने वाले राजकीय महिला कॉलेज के भवन को अंतिम रूप दिया जा रहा है। आचार संहिता समाप्त होते ही इनके तेजी से संपन्न होने के आसार हैं। इसी तरह पिपली में बस अड्डे के निर्माण की प्रक्रिया भी गति पकड़ सकती है। दोबारा किया जाएगा टेंडर : अमित बंसल

पीडब्ल्यूडी के कार्यकारी अभियंता अमित बंसल का कहना है कि गुलजारी लाल नंदा मार्ग पर ठेकेदार ने काम बंद कर दिया था। इस सड़क का दोबारा टेंडर किया जाएगा। कार्य को निर्धारित समयावधि में कराने का प्रयास होगा। आचार संहिता के कारण कार्य रूके हुए थे। जिन्हें अब तेजी से कराया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस