जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : कैंसर विशेष डॉ. जतिन सरीन ने कहा कि भारत में हृदय रोग के बाद कैंसर सबसे बड़ा हत्यारा बन गया है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के अनुसार, कैंसर के कारण हर दिन 1300 भारतीय मौत के मुंह में जा रहे हैं। एक अनुमान के अनुसार 2040 तक ये आंकड़ा वार्षिक 20 लाख तक पहुंच जाएगा। हरियाणा में ही हर रोज कैंसर से 13 जानें जाती हैं।

मोहाली स्थित आइवीवाइ अस्पताल के विशेषज्ञ डॉ. जतिन ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत की युवा आबादी और लंबे समय तक तंबाकू का उपयोग कैंसर का मुख्य कारण है। उन्होंने कहा कि एक बार प्रयोग की गई प्लास्टिक के कारण लोग कैंसर की चपेट में ज्यादा आ रहे हैं। प्लास्टिक से निकलने वाला कारसिनोजन कारक लोगों के भीतर जाकर कैंसर का मरीज बना रहा है। महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों में भी स्तन कैंसर के मामले सामने आ रहे हैं। पुरुषों में शीर्ष तीन कैंसर किलर्स मुंह, पेट और फेफड़ों के कैंसर हैं। वहीं महिलाओं में पेट और स्तन कैंसर हैं। भारत में अगले दो दशकों में कैंसर के मामलों में 70 प्रतिशत वृद्धि होने की उम्मीद है। डॉ सरीन ने कहा कि हमारे देश में ज्यादातर मामलों का डायग्नोस बहुत देर से किया जाता है और डब्ल्यूएचओ के आंकड़ों के अनुसार 60 प्रतिशत से अधिक महिलाओं को भारत में फेज तीन या चार में पहुंचने पर स्तन कैंसर का डायग्लोस किया जाता है। यह रोगियों के लिए जीवित रहने की दर और उपचार के विकल्पों को काफी प्रभावित करता है। उन्होंने बताया कि भारतीय महिलाओं में मोटापे की बढ़ती उच्च दर आने वाले खतरे को लेकर अलार्म है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप