जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : शहर के धोबी मोहल्ला में रहने वाली विवाहिता हिमानी की हत्या उसके ही भाई ने की थी। हिमानी रक्षाबंधन पर न तो अपने भाई को राखी बांधती थी और न ही भैयादूज पर टीका करती थी। भैयादूज पर टीका न करने पर दोनों के बीच झगड़ा भी हुआ। उसके भाई राकेश ने पीछे से हिमानी के गले में डाली चुन्नी से उसका गला घोंट दिया और घर के मुख्य द्वार को बाहर से बंद कर अपने पिता की दुकान पर चला गया। पुलिस ने आरोपित को अदालत में पेश किया। अदालत ने उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

30 अक्टूबर को धोबी मोहल्ला निवासी कृष्ण लाल ने थाना शहर में शिकायत दर्ज कराई थी कि अज्ञात व्यक्ति ने उसके घर में घुसकर उसकी बेटी हिमानी (22) की हत्या कर दी। हत्या के बाद घर की अलमारी में रखी नकदी व जेवर गायब थे। वारदात को अंजाम देने के बाद शव को बैड पर चादर से ढक दिया था ताकि लगे कि वह सो रही है। हत्या के बाद आरोपित भाई राकेश अपने पिता व पुलिस के साथ मौजूद रहा। जांच के दौरान पुलिस को राकेश पर शक हुआ। हिमानी ने भैयादूज पर नहीं किया था राकेश को टीका

इस ब्लाइंड मर्डर की जांच पुलिस ने आस पड़ोस से ही आरंभ की। पड़ोसियों से पता चला कि भैयादूज पर हिमानी ने अपने भाई को तिलक नहीं किया था, इसी से राकेश नाराज था। इस कारण उसने हिमानी के साथ मारपीट की थी। इस बारे में हिमानी ने पड़ोसियों को बताया था। पिता अक्सर पुत्री की बात माना करते थे और पुत्र राकेश को डांटते थे।

स्वजनों को भी अपने पुत्र पर यकीन नहीं था कि इस वारदात को अंजाम दे सकता है। पुख्ता सबूत हाथ लगते ही थाना शहर प्रभारी सुभाषचंद, एसआइ बलजीत वालिया ने आरोपित को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने वारदात कबूल ली।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप