जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : रक्त सभी धर्म और संप्रदाय के लोगों तथा महिला एवं पुरुष में एक जैसा ही होता है। रक्त जीवन के संचालन में सबसे महत्वपूर्ण है। यह जाति पाति और धर्म के भेद को नहीं जानता। इस का काम तो जीवन बचाना है। यह कहना है कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय विधि विभाग की प्रोफेसर सुशीला चौहान का। वे डायमंड रक्तदाता डॉ. अशोक कुमार वर्मा की ओर से आयोजित रक्तदान शिविर में बतौर मुख्यातिथि पहुंची थी। शिविर की अध्यक्षता जिला प्रशिक्षण अधिकारी राजेंद्र सैनी ने की, जबकि मुख्याध्यापक दलबीर मलिक विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। कार्यक्रम के अंतर्गत गुलशन ग्रोवर को आजीवन सेवा सम्मान दिया गया। जिला प्रशिक्षण अधिकारी राजेंद्र सैनी, ओम वर्मा यूएसए, धीरज गुलाटी, रामेश्वर सैनी, जसबीर गिल को राष्ट्र सेवा पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

दलबीर मलिक ने कहा कि डॉ.अशोक कुमार वर्मा से युवाओं को प्रेरणा लेनी चाहिए। राजेंद्र सैनी ने रक्त की महिमा पर विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि यह किसी फैक्ट्री में नहीं बनाया जा सकता है। शिविर में पवन कुमार ने 40वीं बार, डॉ भारतेन्दु हरीश ने 10वीं बार, पंकज कुमार, अधिवक्ता ब¨लद्र पाल ने 27वीं बार, दिलबाग ¨सह, राजेंद्र पाल, सुखदेव ¨सह, संजीव, पवन चौधरी, गो¨वद कुमार, जिले ¨सह, गुरमुख ¨सह, धनपाल, कपिल देव, मदन लाल, राकेश कुमार, पंकज, राकेश, रजत सहित 25 युवाओं ने रक्तदान के माध्यम से सिनेमा जगत के अभिनेता धर्मेंद्र का जन्म दिन मनाया। शिविर के संचालन में विनोद भुक्कल ने भरपूर सहयोग किया। शिविर के समापन पर सभी रक्तदाताओं और अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट किए गए और अल्पाहार की व्यवस्था की गई। अधिकारी डॉ. विनोद तंवर की अध्यक्षता में नरेश सैनी, गुर¨जद्र कौर और सीमा ने रक्त संग्रह किया।

Posted By: Jagran