जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र

जयराम विद्यापीठ में भारत साधु समाज के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं जयराम संस्थाओं के परमाध्यक्ष ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी के मार्गदर्शन में प्रदेशाध्यक्ष महंत बंसी पुरी की अध्यक्षता में संत महापुरुषों की बैठक हुई। बैठक में राज्य के अलग अलग जिलों से विभिन्न अखाड़ों के संत महापुरुषों ने शिरकत की। बैठक में निर्णय लिया गया कि भारत साधु समाज की देश के अन्य राज्यों की भांति हरियाणा के सभी जिलों में भी इकाईयां गठित की जाएं और इसकी जिम्मेवारी प्रदेशाध्यक्ष महंत बंसी पुरी को सौंपी गई। इसके लिए 21 नवंबर को कुरुक्षेत्र में ब्रह्मसरोवर के तट पर भारतीय साधु समाज के प्रदेश कार्यालय का शुभारम्भ किया जाएगा। विद्यापीठ में हुई बैठक में प्रमुख तौर पर इस बात पर चर्चा की गई कि भारतीय संस्कृति और धर्म के रक्षक के रूप में संत समाज ने कार्य किया है। आज कुछ असामाजिक तत्वों के कारण लोगों की संत समाज के प्रति धारणा बदली है, लेकिन अब भारत साधु समाज संत महापुरुषों के सम्मान के लिए काम कर रहा है। भारत साधु समाज के प्रयासों से आम लोगों की धारणा भी बदलेगी। राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी ने कहा कि पूरे विश्व में भारतीय संस्कृति, शिक्षा और कला मजबूत आधार पर हैं, इसके लिए हमें अपने अपने समाज के युवाओं को प्रेरित किए जाने की आवश्यकता है। बैठक में महंत महेश मुनि, महंत विशाल दास, महंत ज्ञानेश्वर दास, महंत महेश मुनि, स्वामी रोशन पुरी, स्वामी श्रद्धानंद, महंत लाल गिरी बाबा, महंत चमन गिरी, महंत उत्तम गिरी, स्वामी पूर्ण दास, महंत कर्ण दास, महंत बुध दास, महंत प्रेम दास, स्वामी प्रमोद पुरी, विजय अत्रि, स्वामी बलवंत दास, स्वामी हरि नारायण नंद, हरिहर दास महाराज, महंत राम अवतार, महंत ईश्वर दास व गुरुग्राम विनीत गिरी महाराज इत्यादि सहित अनेकों संत महापुरुष पहुंचे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस