जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री अशोक अरोड़ा ने लोकसेवा आयोग के चेयरमैन पर आलोक वर्मा की नियुक्ति पर आपत्ति जताई है। अरोड़ा का कहना है कि एक तरफ मुख्यमंत्री मनोहर लाल हरियाणा एक हरियाणवी एक का नारा देते हैं, वहीं दूसरी तरफ हरियाणा लोक सेवा आयोग के चेयरमैन के पद पर हरियाणा से बाहर के निवासी आलोक वर्मा को नियुक्ति दी गई। यह प्रदेश के योग्य लोगों की अनदेखी है।

उन्होंने कहा कि आलोक वर्मा मूल रूप से बिहार के रहने वाले हैं। जबकि प्रदेश में बहुत होनहार लोग हैं। उनकी अनदेखी कर बाहरी व्यक्ति को कुर्सी देना गलत है। उन्होंने कहा कि सरकार में प्रदेश में पहले भी बाहर के कई लोगों को उच्च पदों पर नियुक्ति दे रखी है। उन्होंने उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला की चुप्पी पर भी कटाक्ष की और कहा कि वे हरियाणा के युवाओं को 75 प्रतिशत नौकरियां देने का वायदा करते हैं और इस संबंध में कानून बनाने की बात कर रहे हैं। अब आलोक वर्मा की नियुक्ति पर चुप्पी साधे हुए हैं।

अरोड़ा ने कहा कि प्रदेश का हर वर्ग सरकार से दुखी है। किसान कर्मचारी, व्यापारी सहित सभी सड़कों पर हैं। बरोदा उपचुनाव का परिणाम भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार की एक वर्ष की उपलब्धि पर जनमत संग्रह होगा। बरोदा में कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में एक तरफा लहर चल रही है। उन्होंने कहा कहा कि आज महंगाई बेलगाम हो गई है। प्याज ने लोगों के आंसू निकाल दिए हैं। आम आदमी के लिए दो वक्त की रोटी का जुगाड़ करना मुश्किल हो गया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021