जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : प्याज के बाद अब आलू भी नखरे दिखा रहा है। आलू का रकबा कम होने के कारण इसके दाम अभी भी कम नहीं हो रहे हैं। सब्जियों का राजा आलू भी थाली से धीरे-धीरे गायब हो रहा है। आलू का मूल्य पिछले एक माह से 20 रुपये प्रति किलो ही चल रहा है। वहीं दाम अच्छे होने से किसानों को राहत मिली है। किसानों का कहना है कि पिछले एक दशक से आलू का मूल्य इतना नहीं आया। नवंबर में आलू की नई फसल आई थी। उस समय इसके दाम 1400 से 1500 रुपये प्रति क्विंटल थे, जो आज भी इतने ही चल रहे हैं। हालांकि क्षेत्र में हुई बारिश से अब आलू की निकासी 10 दिन तक नहीं हो पाएगी। जिससे इसके दाम कम होने की उम्मीद नहीं है।

जिस समय आलू की बिजाई हुई थी उस वक्त बारिश के कारण काफी बड़े क्षेत्र में फसल खराब हो गई थी। प्रदेश के साथ-साथ अन्य प्रदेशों में भी आलू की फसल पर बारिश की मार रही। अब इसका असर साफ दिखाई देने लगा है। 15 नवंबर से जिले की आलू मंडी पिपली में आवक आरंभ हो गई थी। उस समय ये जो दाम थे, वही दाम आज भी हैं। महंगाई बढ़ने का असर सीधा उपभोक्ताओं की जेब पर पड़ रहा है। अभी कम नहीं होंगे आलू के दाम

आलू उत्पादक कुलबीर सिंह का कहना है कि अभी आलू के दाम कम होने वाले नहीं हैं। क्षेत्र में आलू की निकासी की जा रही है। बारिश के कारण अब 10 दिन तक निकासी का कार्य नहीं हो पाएगा। दाम अच्छे होने के कारण किसान इस बार कच्चा आलू ही बेच रहा है। आलू के दाम अच्छे होने से किसानों का फायदा हुआ है। पिछले कई सालों से आलू उत्पादन में घाटा ही हो रहा था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस