अनुज शर्मा, कुरुक्षेत्र

धर्मनगरी के रेलवे स्टेशन पर आने वाले यात्री एक साल बाद ब्रेड पकौड़े का स्वाद चख सकेंगे। इसके साथ ही रेलवे स्टेशन पर अब यात्रियों को चाय-पकौड़े बेचने वाले वेंडरों की अलग-अलग तरह की आवाजें सुनने को मिलेंगी।

बता दें कि कोरोना महामारी के कारण 23 मार्च 2020 को देशभर के सभी रेलवे स्टेशनों पर लगने वाली विभिन्न प्रकार की चाय-पकौड़े, पूड़ी व पैकेट बंद समान की स्टाल्स तुरंत प्रभाव से बंद करवा दी थी। लेकिन वैक्सीन आने के बाद उत्तर रेलवे के दिल्ली डिविजन ने अपने अंतर्गत आने वाले सभी रेलवे स्टेशनों पर दोबारा से स्टाल खोलने की अनुमति दे दी है। उतर रेलवे की ओर से अनुमति मिलने के बाद रेलवे स्टेशन कुरुक्षेत्र लगने वाली 16 स्टालों में से चार स्टालों को खुलवा दिया है। वेंडरों ने ली राहत की सांस

रेलवे स्टेशन पर एक साल से बंद पड़ी स्टाल खुलने से वेंडरों ने राहत की सांस ली। वेंडर नरेश कुमार, प्रीतम सिंह, सन्नी व अशोक कुमार ने बताया कि एक साल से स्टाल बंद होने से उनकी रोजी-रोटी छिन गई थी। इसके बाद उन्हें घर का गुजारा का चलाने में बेहद परेशानी का सामना करना पड़ा। मार्च से जून माह तक लगे लॉकडाउन में कही भी काम नहीं मिला। जून में अनलाक होने के बाद उन्हें पेट्रोल पंप या अन्य जगह मजदूरी करके जैसे-तैसे दो वक्त की रोटी का जुगाड़ किया। ट्रेनें चलें तो बढ़े आमदनी

वेंडरों का कहना है कि अभी रेलवे स्टेशन पर चुनिदा ही ट्रेनों का ठहराव किया गया है। अगर रेलवे जल्द ही कुरुक्षेत्र रेलवे स्टेशन पर रुकने वाली गाड़ियों को चला दे तो निश्चित रूप से उनकी आमदनी बढ़ेगी। अभी सिर्फ चार से पांच ट्रेनें की रुक रही है। वहीं ट्रेनों में टिकट की व्यवस्था शुरू की जानी चाहिए। जिससे यात्री बढ़ेंगे और आमदनी भी बढ़ेगी। रेलवे की ओर से अनुमति मिलने पर स्टाल खोली गई है। अभी 16 में से चार स्टाल ही खोली गई है। धीरे-धीरे इनकी संख्या बढ़ाई जाएगी।

- केके सिंह, स्टेशन अधीक्षक, रेलवे स्टेशन कुरुक्षेत्र

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021