जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र : थाना झांसा के अंतर्गत गांव हंसाला के खेतों में गाड़ी से बरामद हुए गांजे के मामले में मुख्यारोपित ने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है। एंटी नारकोटिक्स सेल की टीम लगातार आरोपित के घर दबिश दे रही थी। आरोपित चार माह से छिपता फिर रहा था। पुलिस ने आरोपित को अदालत में पेश किया। अदालत ने उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है।

थाना झांसा पुलिस को 30 अक्टूबर 2019 को सूचना मिली थी कि गांव हंसाला के डेरा गरमुलिया के खेतों में एक क्रेटा गाड़ी लावारिश हालत में खड़ी है। एसआइ हरबंस लाल, एएसाआइ रणबीर सिंह, मुख्य सिपाही सुखदेव सिंह व चालक जगजीत सिंह ने मौके पर पहुंच कर गाड़ी को कब्जे में ले लिया था। नायब तहसीलदार जयबीर रंगा की मौजूदगी में तलाशी में गाड़ी की डिग्गी से चार पोलिथिन में 40 किलो 700 ग्राम गांजा बरामद हुआ था। पुलिस ने गाड़ी को कब्जे मे लेकर थाना झांसा में नशीली वस्तु अधिनियम के तहत मामला दर्ज करके जांच आरंभ कर दी थी। जांच के दौरान पुलिस ने दो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया था। दबाव में आकर तीसरे आरोपित राजस्थान के जिला अलवर के जुलाहा मोहल्ला निवासी तायब खान ने एंटी नारकोटिक्स सेल के एसआइ अश्वनी कुमार, मुख्य सिपाही सुरेंद्र सिंह व सतीश कुमार की टीम के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस