जागरण संवाददाता, करनाल : हरियाणा गवर्नमेंट पीडब्ल्यूडी मैकेनिकल वर्कर्स यूनियन के राज्य प्रधान कृष्ण शर्मा व महासचिव कंवर लाल यादव ने संयुक्त बयान जारी करते हुए कहा कि हरियाणा सरकार पानीपत शहर की जल व मल की आपूर्ति नगर निगम पानीपत को देने की योजना बना रही है। इसके विरोध में यूनियन 27 सितंबर को पूरे प्रदेश में निजी करण विरोधी दिवस के रूप में मनाते हुए प्रत्येक ब्लाक स्तर पर प्रदर्शन करेगी। मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिए जाएंगे कि यह पानीपत शहर की जल व मल की व्यवस्था नगर निगम को ना सौंपी जाए। उन्होंने कहा कि जनस्वास्थ्य विभाग के पास जल व मल की व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए अनुभव प्राप्त कर्मचारी, अधिकारी सहित पूरा अमला उपलब्ध है। परंतु नगर निगम के पास इस प्रकार का कोई अनुभव नहीं है। बंदर के हाथ में उस तरह देने से नुकसान होना निश्चित है। मुख्यमंत्री से अनुरोध किया है कि इस प्रकार जल व मल की सप्लाई नगर निगम व पंचायतों को देखकर पानी कम दामों पर देने की जो सुविधाएं सरकार की ओर से दी जाती थी्र उससे जनता को वंचित न किया जाए। उन्होंने हरियाणा सरकार से यह भी आग्रह किया है कि सिचाई विभाग में नहरों के रखरखाव व भवन एवं सड़क शाखा में सड़कों पर पैच वर्क का कार्य ठेके पर न देकर कर्मचारियों से करवाया जाए। यदि सरकार ने इसी प्रकार निजीकरण करने की चाल जारी रखी तो संगठन और मजबूती से आंदोलन करने पर मजबूर होंगे। इस अवसर पर करनाल जिला प्रधान सतपाल सरोहा, सचिव धर्मवीर जांगड़ा, कोषाध्यक्ष रंगलाल संधू, ऋषि पाल शर्मा, रोहतास खोकर व लक्ष्मण सिंह नेगी उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran