मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

अश्विनी शर्मा, करनाल

दिग्गज भाजपा नेत्री सुषमा स्वराज से जुड़ी यादें जेहन में ताजा हो रही हैं। वह अपने प्रभावशाली व्यक्तित्व से किसी को भी अपना बनाने की क्षमता रखती थी। वह हमेशा जमीन से जुड़ी रहीं। यही वजह है कि उनकी यादों को अभी भी पार्टी नेताओं व वर्करों ने सहेज कर रखा हुआ है। 1984 में जनसंघ की टिकट पर सुषमा स्वराज ने जब चुनाव लड़ा था तो उनकी आर्थिक स्थिति तंग थी। पार्टी के पास भी फंड की कमी होती थी। लेकिन मजबूत इरादों की सुषमा ने वर्करों के साथ मिलकर चुनाव में मोर्चा संभालकर रखा। चुनाव प्रचार को आगे बढ़ाने के लिए उन्होंने अपने जेवर तक बेच दिए थे। लेकिन विषम परिस्थितियों में भी हौसला कमजोर नहीं होने दिया था।

यह याद करते हुए (तत्कालीन भाजपा युवा मोर्चा के जिला प्रधान) एडवोकेट जेसी चावला बताते हैं कि जब उन्होंने अपने जेवर बेचने की बात कही तो एक बार वह हैरत में पड़ गए थे। वह गजब की संगठनकर्ता भी थीं और उन्हें पूरे संगठन को एक साथ लेकर चुनाव में ताल ठोकी, लेकिन उस समय कांग्रेस की लहर थी। मजबूती से मुकाबला लड़ने के बाद जब वह हार गई तो उनके पास आई थीं और यह जानना चाह रही थी कि उन्हें कितने पैसे देने हैं। इस पर हमारा जवाब था कि हम आपस में चंदा एकत्रित कर लेंगे, बहनजी आप से पैसे नहीं लेंगे।

तंगहाली में चुनाव लड़ने का सिलसिला आगे बढ़ाया

सुषमा स्वराज ने उस धारण को स्थापित किया कि ईमानदार लोग चुनाव लड़ सकते हैं। वह चुनाव प्रबंधन में भी माहिर थी। पूर्व जिलाध्यक्ष अशोक सुखीजा बताते हैं कि 1989 के चुनाव में पुरानी अनाज मंडी में चुनावी जनसभा थी। उस सभा में पूर्व मुख्यमंत्री ताऊ देवी लाल ने आए थे। तब उनकी पार्टी के साथ भाजपा का गठबंधन हुआ था। भाजपा की टिकट सुषमा स्वराज को मिली थी। जब ताऊ देवी लाल आए तो उन्होंने चुनाव में आर्थिक मदद देने की मांग रखी। इस पर ताऊ देवी लाल ने पूछा कि तुम मेरी बेटी की तरह हो। जितना में दूसरों को देता हूं, उससे दोगुना आपको दूंगा। लेकिन पहले यह बताओ कि आपके पास कितनी राशि है। उस समय उनके पास कुछ नहीं था। पार्टी नेताओं व वर्करों ने तत्काल चंदा एकत्रित किया। चंदे से करीब 75 हजार रुपये एकत्रित हुए। यह राशि ताऊ देवी लाल के पास लेकर गए तो उन्होंने इस राशि से दोगुनी राशि उन्हें चुनाव के लिए देने को मंजूर कर दी।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप