जागरण संवाददाता, करनाल : नौतपा में मौसम के तेवर नरम होते ही लोगों के चेहरे खिल गए। लगातार बढ़ती गर्मी से लोग बेहाल हो गए थे, लेकिन मौसम का मिजाज बदलने के साथ ही पारा नीचे की ओर लुढ़क गया। बादल बरसे और गर्मी से परेशान लोगों को बरसात ने राहत प्रदान की। हालांकि तेज हवाओं की वजह से कई जगह से पेड़ व खंभे गिरने की सूचनाएं सामने आई। पिछले 24 घंटों में 16.6 एमएम बरसात दर्ज की गई। राहत की बात यह भी कि अभी मौसम विभाग आने वाले 24 घंटे में भी बरसात होने की संभावना जाहिर कर रहा है।

शुक्रवार को करनाल में अधिकतम तापमान 35.4 डिग्री रहा, जबकि न्यूनतम तापमान 21.8 डिग्री रहा। बृहस्पतिवार की शाम से ही आसमान में बादल छाने शुरू हो गए थे और रात के समय तेज हवाओं के साथ बरसात शुरू हो गए थी। शुक्रवार को फिर गर्मी अपना रूप दिखाती इससे पहले ही आसमान में बादल छा गए और हवाएं चलनी शुरू हो गई। दोपहर 11 बजे बरसात के साथ मौसम खुशनुमा हो गया तो लोगों अपने अपने घरों की छतों पर चढ़कर इसका लुत्फ उठाया। मौसम विभाग के अनुसार आने वाले 24 घंटे में भी लोगों को गर्मी से राहत मिल सकती है। आने वाले 24 घंटे में बरसात होने की संभावना है। मंडी में गेहूं भीगा

करनाल अनाज मंडी में अभी गेहूं की आवक जारी है। शुक्रवार को बरसात होने के साथ ही मंडी में गेहूं लेकर आए किसानों के होश फाख्ता हो गए। मंडी में खुले आसमान के नीचे रखे धान को तिरपाल से ढकने में किसान व मजदूर जुट गए तो साथ ही बोरियों को भी कवर किया जाने लगा। गेहूं के सीजन में भी बरसात ने लगातार किसानों की परीक्षा ली थी। पार्कों में सैर करने भी आए लोग

लॉकडाउन के नियमों के चलते लोगों की चहल-पहल पार्कों में सामान्य दिनों की तुलना में कम देखी जा रही है। लेकिन शुक्रवार को हुई बरसात के बाद शाम के समय अपने परिवार के साथ पार्कों में टहलने के लिए आए। लेकिन इस दौरान उन्होंने उचित शारीरिक दूरी बनाए रखने के नियम का पालन किया और चेहरे को मास्क से ढककर रखा। फोटो:-45

तेज आंधी में गिरे बिजली के खंभे

निगदू क्षेत्र के कारसा डोड गांव में गुरुवार की रात को आई आंधी में बिजली के खंभे व पेड़ गिर गए। गांव में सात खंभे उखड़कर गलियों में गिर गए। तेज हवा के साथ खंभे उखड़े तो वह पास के मकानों से भी जाकर टकराए। हालांकि इससे किसी को जान-माल का नुकसान नहीं हुआ। वहीं गांव में एक पेड़ उखड़कर घर की छत पर भी जाकर गिर गया था। खंभे उखड़ने के बाद से गांव में बिजली सप्लाई बाधित रही। शुक्रवार को ग्रामीणों ने बिजली व्यवस्था दुरुस्त करवाने के लिए बिजली निगम के कार्यालय में शिकायत भी कर दी, लेकिन इसके बाद भी देर शाम तक गांव में बिजली की सप्लाई सुचारू नहीं हो पाई।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस