- सिविल सर्जन डा. योगेश शर्मा ने कहा, कोविड महामारी को देखते हुए प्रदेश सरकार की ओर से की गई शुरूआत

फोटो---29 नंबर है। जागरण संवाददाता, करनाल: अब घर बैठे वे तमाम बुजुर्ग, बच्चे व गर्भवती महिलाएं ऑनलाइन ई संजीवनी ओपीडी पोर्टल से निश्शुल्क चिकित्सा सलाह ले सकेंगे, जो किसी कारण घर से निकलने में असमर्थ हैं। हरियाणा सरकार ने ऑनलाइन ई संजीवनी ओपीडी पोर्टल शुरू कर दिया है। कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखते हुए ई संजीवनी के माध्यम से आम जनता पोर्टल पर रजिस्टर करके सोमवार से शनिवार सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे व सायं 3 बजे से 5 बजे तक चिकित्सा अधिकारियों से ऑनलाइन परामर्श लेकर संबंधित बीमारी का इलाज करवा सकते हैं। इस पोर्टल के माध्यम से गर्भवती महिलाएं, कोविड-19 में पॉजिटिव हुए होम आइसोलेशन क्वारेंटाइन मरीज व किसी भी बीमारी से ग्रस्त मरीज इसका लाभ ले सकता है। ई-संजीवनी ओपीडी के माध्यम से बिना किसी फीस के ऑनलाइन संबंधित चिकित्सा अधिकारी से सलाह ली जा सकती है। ई संजीवनी एप कैसे करें डाउनलोड

एंड्रायड आधारित मोबाइल पर डाउनलोड करने के लिए प्ले स्टोर पर ई संजीवनी ओपीडी लिक का उपयोग करें। रोगी पंजीकरण करें और ओटीपी का उपयोग करके टोकन जनरेट करें। मोबाइल नंबर और टोकन नंबर का उपयोग करने के लिए लॉगइन करें तथा अपनी बारी का इंतजार करें और डाक्टर से परामर्श लें, परामर्श के बाद दवा की ई पर्ची देखें। वीडियो कांफ्रेंसिग से भी मिलेगा परामर्श

सिविल सर्जन डा. योगेश शर्मा ने बताया कि घर से वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से डाक्टर से परामर्श लेने के लिए क्राम ब्राउजर पर जाएं और अपना मोबाइल नम्बर सत्यापित करें, नए रोगी पंजीकरण करें और टोकन जनरेट करें। उन्होंने बताया कि एसएमएस के माध्यम से सूचना प्राप्त होने पर लॉगइन करें। अपनी बारी आने पर वीसी या लाइव चेट से डाक्टर से परामर्श प्राप्त कर दवा की पर्ची डाउनलोड करें।

Edited By: Jagran