जागरण संवाददाता, करनाल: कोरोना की दूसरी लहर धीमी पड़ने के बाद जनजीवन पटरी पर फिर से लौटना शुरू हो गया है। हरियाणा राज्य परिवहन विभाग ने बस सेवाओं को शुरू कर दिया है। हालांकि अभी 60 प्रतिशत बसें ही रूटों पर दौड़ रही हैं लेकिन दूसरे राज्यों में करनाल डिपो की बसों का आवागमन शुरू कर दिया गया है।

परिवहन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जिस रूट पर यात्रियों की डिमांड आती है उस रूट पर सवारियों की संख्या को देखते हुए बसों को भेजा जा रहा है। हालांकि अभी सभी बसों का संचालन नहीं किया जा रहा है। मुख्यालय के आदेश के बाद ही इस बाबत फैसला लिया जाएगा। लेकिन इतना जरूर है कि बसों की संख्या रूटों पर बढ़ाई गई हैं। बता दें कि कोरोना के पीक के दौरान बहुत कम बसों को ही दौड़ाया जा रहा था। इन रूट पर शुरू हुई हैं बसें

कोरोना की रफ्तार धीमी पड़ने के बाद करनाल डिपो की बसों को दिल्ली आइएसबीटी, लुधियाना, जालंधर, पटियाला के अलावा उत्तर प्रदेश के शामली में भी भेजना शुरू कर दिया गया है। पिछले तीन दिन में ही यह निर्णय हुआ है। इससे पहले जिले के अंदर लोकल रूटों पर बसों को दौड़ाया जा रहा था। यात्रियों की बढ़ती संख्या व मांग को देखते हुए बसों की संख्या को 60 प्रतिशत कर दिया गया है। यह आंकड़ा धीरे-धीरे बढ़ाए जाने पर विचार किया जा रहा है। कोविड प्रोटोकाल के अनुसार ही दौड़ रही बसें

करनाल डिपो से चलने वाली सभी बसों को पूर्व निर्धारित कोविड प्रोटोकोल के अनुसार ही रूटों पर दौड़ाया जा रहा है। बस की सीट का 50 प्रतिशत सवारियां ही बैठाई जा रही हैं। बिना मास्क किसी भी सवारी को बस में बैठने की अनुमति नहीं दी गई है। रोडवेज के ड्यूटी इंस्पेक्टर को इस संबंध में कड़ी हिदायत दी गई है कि बिना मास्क कोई भी सवारी बस में सवार न हो। वर्जन

रोडवेज महाप्रबंधक कुलदीप सिंह ने बताया बसों को दूसरे राज्यों में भेजना शुरू कर दिया गया है। जहां से डिमांड आती है और सवारियों की संख्या पर्याप्त है, उसी के अनुसार बसों का संचालन सुनिश्चित किया जा रहा है। रोडवेज बसों में कोविड प्रोटोकोल का विशेष ध्यान दिया जा रहा है। इस बारे में पूरे स्टाफ को अलर्ट किया गया है। सभी बसों को समय-समय पर सैनिटाइज किया जा रहा है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप