संवाद सहयोगी, घरौंडा : लोकल फॉर वोकल को बढ़ावा देने के लिए हरियाणा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को प्रशिक्षण दे रहा है। डिगर माजरा गांव में स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को दीपावली के लिए रंग-बिरंगी लड़ी बनाने का प्रशिक्षण दिया गया। इससे महिलाएं न सिर्फ आत्मनिर्भर बनेगी, बल्कि उन्हें रोजगार भी मिलेगा।डिगर माजरा गांव में हरियाणा राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक जुबीन शालू की अध्यक्षता में ट्रेनिग प्रोग्राम हुआ। ट्रेनिग प्रोग्राम में डींगरमाजरा, बीजना, हसनपूर, मुबारकाबाद व डेरा सिकलीगर की महिलाओं ने हिस्सा लिया। सुबह 10 बजे से शाम चार बजे तक चले इस कार्यक्रम में स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को रंगीन लाइटें व लडिय़ां तैयार करने का प्रशिक्षण दिया। महिलाओं ने बिजली की 30 लडिय़ों को तैयार किया। एक लड़ी 50 बल्बों से तैयार की गई ताकि दीपावली पर अपने गांव में स्वयं सहायता समूह द्वारा निर्मित बिजली की लड़ियों का प्रयोग कर सके। जुबीन शालू ने बताया कि महिलाएं अपने काम को स्वयं शुरू करें व अपने परिवार की आर्थिक मदद करे। इसके लिए उन्हें अपने समान की सेल करने के लिए अपनी समूह की बहनों की मदद ले सकती है और उन्हीं को अपना सामान बेच सकती है। डीएफएम गुरमीत सिंह ने बताया कि काम को शुरू करने के लिए बैंक से लोन आसानी से मिल सकता हैं। कार्यक्रम के बाद महिला प्रशिक्षणार्थियों को सर्टिफिकेट दिए गए। इस मौके पर एफएलसी जयनारायण, खंड कार्यक्रम प्रबंधक कविता, ट्रेनर दीपा, मीनाक्षी, सरला, रजनी, पूजा, सुनीता मौजूद थे।

Edited By: Jagran