जागरण संवाददाता, करनाल: शहर के मुख्य बाजारों में ट्रैफिक सिस्टम फेल हो रहा है। इसके चलते चौक दर चौक जाम की स्थिति रहती है। इसकी एक अहम वजह निश्चित पार्किंग स्थलों का इस्तेमाल नहीं करना और साथ ही पार्किंग की समुचित व्यवस्था नहीं होना है। लोग मुख्य बाजारों में दुकानों के बाहर अपनी कार और बाइक को खड़ी कर देते हैं। इससे सड़क सिकुड़ जाती है और वाहनों का निकलना मुश्किल हो जाता है। हालांकि मुख्य बाजारों को जाम मुक्त बनाने के लिए पहले भी कई बार योजनाएं बन चुकी हैं, लेकिन समस्या जस की तस है। अब स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत भी इस समस्या का संज्ञान लिया गया। इसके लिए नौ ट्रैफिक जोन बनाने की कवायद शुरू की गई है, लेकिन मुख्य बाजारों के आसपास पार्किंग व्यवस्था मजबूत होने के साथ ही उसका इस्तेमाल कराने के लिए कड़े नियम नहीं बनने तक शहर के अंदर जाम की समस्या का समाधान संभव नजर नहीं आता है।

यहां-यहां लगता है जाम

शहर में जाम लगने के प्रमुख स्थलों में कुंजपुरा रोड, पुराना जीटी रोड, घंटाघर चौक, कमेटी चौक, पुरानी सब्जी मंडी चौक, रेलवे रोड, अस्पताल चौक और दयाल सिंह कालेज रोड शामिल है। इन स्थलों पर जाम लगने की एक वजह दुकानों के बाहर सामान भी है। जबकि रेहड़ी और फड़ी लगने की वजह से भी सड़क सिकुड़ जाती है।

डालें पार्किंग का इस्तेमाल करने की आदत

शहर के मुख्य बाजारों के पास में पार्किंग स्थल बनाए हैं, लेकिन पार्किंग का इस्तेमाल करने से लोग गुरेज करते हैं। दुकानदार भी अपने वाहन सीधे अपनी दुकान के बाहर खड़े करते हैं, जबकि ग्राहक भी सीधे अपने वाहन से शोरूम के सामने पहुंचते। बाजार के अंदर वाहनों की संख्या बढ़ जाने से जाम की स्थिति पैदा हो जाती है। हमें पार्किंग का इस्तेमाल करने की आदत डालनी चाहिए।

ट्रैफिक जोन से जाम मुक्त शहर का सपना

शहर को जाम मुक्त बनाने का सपना स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत देखा जा रहा है। इसके लिए प्लान भी बनाया गया है। ट्रैफिक को कंट्रोल कर उसे नो-ट्रैफिक जोन बनाने के साथ-साथ ऑफ स्ट्रीट यानी सड़क से हटकर पार्किंग बनाए जाने पर काम किया जाना है, लेकिन पार्किंग मैन रोड पर नहीं होगी। इसमें ओल्ड सब्जी मंडी एरिया और ओल्ड एमसी बिल्डिंग स्थल को व्यवस्थित करके पार्किंग की व्यवस्था की जाएगी। ओल्ड एमसी कार्यालय स्थल के साथ लगते सदर बाजार एरिया में वाहनों की आवाजाही को बंद करने का आइडिया भी है। रात से सुबह तक कार फ्री रखने की योजना

इस क्षेत्र में शाम आठ बजे से सुबह आठ या नौ बजे तक का समय कार फ्री करने के लिए भी रखने की योजना है। इस दौरान दुकानदार अपनी दुकानों में नया सामान रख सकते हैं और सामान को बाहर भेजने की व्यवस्था भी कर सकते हैं। नागरिक पैदल आ-जा सकते हैं। वर्जन

डीसी निशांत यादव ने कहा कि शहर के अंदर ट्रैफिक कंट्रोल करने के लिए प्रशासन प्रतिबद्ध है। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत नो ट्रैफिक जोन बनाने की दिशा में काम चल रहा है। इस प्रोजेक्ट को सिरे चढ़ाने के लिए नागरिकों का सहयोग लिया जाएगा, उसकी इन्हें इसकी जानकारी दी जाएगी, आखिर यह सुविधा भी उन्हीं के लिए ही की जानी है।

Edited By: Jagran