जागरण संवाददाता, करनाल : नेशनल हाईवे समेत शहर के विभिन्न चौकों पर बंद पड़ी ट्रैफिक लाइटें अब जगेंगी। ट्रैफिक एंड हाईवे आइजी डॉ. राजश्री ¨सह ने नगर निगम और करनाल ट्रैफिक पुलिस को पत्र लिख यह निर्देश जारी किए हैं। इसमें उन्होंने कहा कि यदि लाइटें अब बंद रही तो उनके खिलाफ कार्रवाई भी अमल में लाई जा सकती है। आइजी ने यह निर्देश दैनिक जागरण की पड़ताल के बाद दिए हैं।

ध्यान रहे दैनिक जागरण ने 18 अगस्त के अंक में शहर की बंद ट्रैफिक लाइटों की स्थिति को उजागर किया था। जागरण की पड़ताल में यह भी पता चला कि नेशनल हाईवे समेत शहर के 11 चौकों में से 8 जगह ट्रैफिक लाइटें बंद रहती हैं। इनमें भी पुरानी सब्जी मंडी और अस्पताल चौक की लाइटें तो लंबे समय से बंद हैं। ऐसे में यहां हादसे भी हो रहे हैं। और शहर में जाम भी लगा रहता है।

डीसी के आदेशों को भी अधिकारियों ने किया नजरअंदाज

इसके अलावा जागरण ने इस मुद्दे पर लगातार अभियान चलाकर ट्रैफिक पुलिस की लापरवाही को भी उजागर किया था कि वह व्यवस्था संभालने की बजाय केवल चाला¨नग में मस्त हैं। हर माह होने वाली रोड सेफ्टी की मी¨टग में डीसी डॉ. आदित्य दहिया शहर की ट्रैफिक व्यवस्था को दुरुस्त करने व सभी चौकों पर लगी ट्रैफिक लाइटों को ठीक कराने और निरंतर चलाने के निर्देश देते हैं लेकिन बावजूद इसके अधिकारी लापरवाही बरत रहे हैं।

बंद लाइटों का हर माह ढाई लाख बिजली बिल वसूल कर डाल रहे हक पर डाका

जागरण की पड़ताल में यह भी सामने आया था कि शहर की बंद ट्रैफिक लाइटों का लोग हर माह करीब ढाई लाख रुपये का बिजली बिल भरते हैं। यह बिल उनसे एम टैक्स के रूप में वसूला जाता है। बता दें कि हर कनेक्शन पर बिजली बिल की कुल रकम पर दो प्रतिशत एम टैक्स के तौर पर वसूला जाता है। इस मद से जमा हुए पैसे से ट्रैफिक लाइट और स्ट्रीट लाइट का बिल अदा किया जाता है। यह एम टैक्स स्ट्रीट लाइटों और ट्रैफिक लाइटों के बिल के रूप में चार्ज होता है। यानि इतना पैसा वसूलने के बाद भी लोगों को सुरक्षित सड़क और यातायात व्यवस्था नहीं मिलती।

खराब टाइमर की लाइटें भी होंगी ठीक

आइजी ने निर्देशों में यह भी कहा कि शहर में जो लाइटें जल रही हैं। उनके टाइमर भी दुरुस्त किए जाएं। ताकि जाम की स्थिति पूरी तरह से खत्म हो सके। उन्होंने कहा कि जिस रूट पर जाम ज्यादा रहता है। वहां लाइटों की टाइ¨मग बढ़ाई जाए। लाइटों के टाइमर खराब होने की स्थिति भी जागरण ने अपने अभियान में उजागर की थी। फोटो---26 नंबर है।

गड्ढों के कारण हादसा हुआ तो एनएचएआइ और सोमा जिम्मेवार

आइजी डॉ. राजश्री ने कहा कि लोगों को सुरक्षित सड़क मुहैया कराना हमारी जिम्मेवारी है। बशर्ते लोगों को भी रोड पर चलना आना चाहिए। उन्हें भी नियमों का पालन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हाईवे गड्ढे भरने के लिए भी वे एनएचएआइ को पत्र लिख चुकी हैं। अब कहीं सड़क खराब होने की वजह से हादसा होता है तो एनएचएआइ और सोमा कंपनी इसके लिए जिम्मेवार होगी। यहां बंद रहती हैं ट्रैफिक लाइट

-नेशनल हाईवे पर बलड़ी बाइपास चौक (इंद्री रोड)

-नेशनल हाईवे पर बलड़ी बाइपास (करनाल सिटी रोड)

-आइटीआइ चौक

-सेक्टर-6 और 14 चौक

-ताऊ देवी लाल चौक

-सेक्टर-13 चौक

-पुरानी सब्जी मंडी

-भगवान परशुराम चौक अस्पताल चौक

Posted By: Jagran