जागरण संवाददाता, करनाल: ग्रीन बेल्ट की सुंदरता में वृद्धि स्मार्ट सिटी की प्रमुख परियोजनाओं में है। राष्ट्रीय राजमार्ग के साथ लगते सेक्टर-6, 7, 13 व 14 से सटी इस ग्रीन बेल्ट में अब जोगिग ट्रैक, पाथ-वे, ओपन एयर थिएटर, बैठने की व्यवस्था, वाई-फाई, ओपन एयर जिम, ब्रिक व पेवर ब्लॉक के कार्य, टाट-लाट, शौचालय और लाईटिग सरीखे बहुआयामी कार्य जोरों पर हैं। उपायुक्त एवं केएससीएल के सीईओ निशांत कुमार यादव ने शनिवार को पांच पार्कों का दौरा कर इनमें किए जा रहे विकास कार्यों और जन सुविधाओं का निरीक्षण किया।

इस प्रोजेक्ट के तहत सेक्टर-6 के पार्क नम्बर तीन व चार में रिफ्लेक्सोलाजी पार्क बनाया जा रहा है। इसमें व्यक्ति सतह पर बिछाए गए पत्थर, रेत, बजरी, घास और जल से अपने शरीर के अंगों को एक्टिवेट कर सकता है। ग्रीन बेल्ट छह पार्कों में विभाजित है। इनके निरीक्षण के दौरान उपायुक्त ने बताया कि एनएच के साथ लगती ग्रीन बेल्ट काफी समय से है। पहले इनमें सामान्य पैदल पथ थे। करनाल स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने इनमें जन सुविधाएं जोडऩे का प्रोजेक्ट लिया, जिस पर जोर-शोर से काम चल रहा है। अब ग्रीन बेल्ट में सुंदर व विविध सुविधाओं से युक्त पार्क होंगे।

उपायुक्त ने पैदल घूमकर एक-एक पार्क का निरीक्षण किया। उन्होंने जोगिग ट्रैक, बैठने के लिए बनाई गई व्यवस्था, रिफ्लेक्सोलाजी पार्क, ओपन एयर जिम, पाथ-वे और राउण्ड अबाउट के कार्यों को देखा। सेक्टर-13 के ग्रीन बेल्ट पार्क में कोन्ग्रीगेशन स्टेज भी बनाई जा रही है, इसमें 50 व्यक्ति एक साथ बैठकर वार्ता कर सकते हैं। इस पार्क में स्टेज जैसा कुछ नहीं है लेकिन एक अलग आकार में समतल स्थान पर ही स्टेज का स्वरूप दिया गया है।

सभी पार्कों में लगेंगे बैंच

निरीक्षण के दौरान उपायुक्त ने निर्माण एजेंसी को निर्देश दिए कि प्रत्येक पार्क में कम से कम 20-20 बैंच लगा दें। इनमें एक से दूसरे की दूरी 30 से 40 मीटर की हो। सेक्टर-13 ग्रीन बेल्ट जो निर्मल कुटिया तक फैली है, इसका करीब एक किलोमीटर लम्बा एक पाथ-वे बनाया जाएगा, जो एक पार्क को दूसरे से जोड़ेगा। उन्होंने कहा कि पार्क में सुरक्षा के इंतजाम भी किए जाएंगे और रोशनी की व्यवस्था रहेगी। प्रत्येक 12 मीटर पर लाईटिग का एक पोल होगा।

डिजिटल लाईब्रेरी का निरीक्षण

पार्कों के बाद उपायुक्त ने शहर के लाईन पार एरिया राम नगर में केएससीएल की ओर से बनाई गई डिजिटल लाईब्रेरी का निरीक्षण किया। अब इसका काम मुकम्मल होने को है। लाईब्रेरी भवन में दीवारों पर आर्ट वर्क से खूबसूरती दी गई है। इसके एक हिस्से में कम्प्यूटर लगाए जाएंगे। बेहतर फर्नीचर होगा और पुस्तकों को रखने के लिए रैक दिए जाएंगे। रख-रखाव के प्रबंध भी किए जाएंगे। सिविल और इलैक्ट्रिकल वर्क पूरा हो चुका है। फर्नीचर के लिए छह बड़ी मेज और रैक आएंगे। इसमें एक साथ 35 व्यक्ति बैठ सकेंगे। स्मार्ट सिटी लिमिटेड नगर निगम के एरिया बूढ़ाखेड़ा में भी डिजिटल लाईब्रेरी स्थापित कर रहा है, जिसका काम जोरों से चल रहा है।

Edited By: Jagran