संवाद सहयोगी, घरौंडा : स्वास्थ्य विभाग ने शहर के भगवती चंद्र मेमोरियल अस्पताल एवं अल्ट्रासाउंड केंद्र की अल्ट्रासाउंड मशीन को सील कर दिया है। सिविल सर्जन डा. योगेश शर्मा ने बताया कि केंद्र के अल्ट्रासाउंड रिकार्ड में खामियां पाई गई हैं। जिस वजह से इस अस्पताल पर जिला प्रशासन द्वारा करवाई की गई है। डा. योगेश शर्मा ने कहा कि कन्या भ्रूण हत्या जैसी सामाजिक बुराई को रोकने के लिए जिला प्रशासन सजगता के साथ कार्य कर रहा है। पीएनडीटी एक्ट को सख्ती से लागू किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिला में अल्ट्रासाउंड केंद्रों का निरंतर औचक निरीक्षण किया जा रहा है। जिसके चलते बीते सोमवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने घरौंडा के भगवती चंद्र मेमोरियल अस्पताल एवं अल्ट्रासाउंड केंद्र का औचक निरीक्षण किया। टीम में उप सिविल सर्जन व नोडल अधिकारी पीएनडीटी डा. नरेश करड़वाल, एसएमओ सीएचसी घरौंडा डा. मुनेश गोयल के अतिरिक्त गीता रानी, सुलेख कुमार तथा सुभाष सागवाल ने अल्टासाउंड के रिकार्ड को खंगाला गया और बारीकी से हर पहलू की जांच पड़ताल की गई। केंद्र के अल्ट्रासाउंड रिकार्ड में कई प्रकार की खामियां पाई गई। इस रिपोर्ट को जिला डीसी की अध्यक्षता में हुई बैठक में रखा गया। जिसके बाद अल्ट्रासाउंड मशीन को सील कर दिया गया। नियमित रूप से किया जाएगा अल्ट्रासाउंड केंद्रों का निरीक्षण

सिविल सर्जन डा. योगेश शर्मा ने बताया कि करनाल जिला के विभिन्न ब्लॉकों में स्थित अल्ट्रासाउंड केंद्रों का नियमित निरीक्षण किया जाएगा। कहीं पर भी कमियां नजर आई तो अल्ट्रासाउंड केंद्र के संचालक के खिलाफ कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जाएगी तथा उसकी मशीन को सील किया जाएगा। उन्होंने सेंटर संचालकों से अपील की कि वे एक्ट के तहत सरकार द्वारा दिए गए दिशा-निर्देशानुसार ही कार्य करें ताकि जिला में पीसी एंड पीएनडीटी एक्ट की दृढ़ता से पालना हो सके।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस