जागरण संवाददाता, करनाल: आंगनबाडी की राज्य तालमेल कमेटी की बैठक में तय किया गया कि आंदोलन अब और तेज किया जाएगा। इसके तहत पहले से जारी हड़ताल को 25 जनवरी तक बढ़ा दिया गया है। फैसला लिया गया कि 17 से 22 जनवरी तक भाजपा और जजपा के सभी विधायकों, मंत्रियों और मुख्यमंत्री के आवास पर धरने दिए जाएंगे।

बैठक की अध्यक्षता जिला प्रधान रूपा राणा ने की, जबकि संचालन जिला सचिव बिजनेश राणा ने किया। सीटू के राज्य कैशियर विनोद कुमार, जिला प्रधान सतपाल सैनी, सचिव जगपाल राणा, ओपी माटा और अमित ने बताया कि प्रदेश सरकार व महिला एवं बाल विकास परियोजना विभाग के अधिकारी वर्करों और हेल्परों का दमन बंद करें। यूनियन से बातचीत करके लंबित मागों को तुरंत लागू किया जाए, ताकि आंगनबाडी केंद्र खोले जा सकें और लाभार्थियों को आंगनबाडी का लाभ मिल सके।

सीटू के राज्य कैशियर विनोद व अमित ने कहा कि सितंबर 2018 में हरियाणा सरकार के साथ आंगनबाड़ी वर्करों का समझौता हुआ था। समझौते के अंदर वर्करों एवं हेल्परों का मानदेय बढ़ाने के साथ आंगनबाड़ी वर्करों का 50 प्रतिशत आरक्षण, आंगनबाड़ी सेंटरों का किराया बढ़ाने सहित अन्य मांगों पर सहमति बनी थी। इसके अलावा मोदी सरकार ने पूरे देश के अंदर आंगनबाड़ी वर्करों का मानदेय 1500 रुपये बढ़ाने तथा हेल्परों का 750 रुपये बढ़ाने की घोषणा की थी, लेकिन ये घोषणाएं आज तक लागू नहीं की गई। पूरे प्रदेश में वर्कर आठ दिसंबर से हड़ताल पर हैं। सरकार ने तीन बार वार्ता के लिए बुलाया, लेकिन समाधान नहीं किया। इस दौरान रूपा राणा, सतपाल सैनी, रीना, सरोज, जगपाल राणा, मास्टर बलराज, भाग सिंह, सुरेंद्र शर्मा, विनोद कुमार, अमित, महेश, मूर्ति, मीनाक्षी, कमला, सुषमा शर्मा, रेखा, नरेश, उमा शर्मा, सुनीता सदर, ओपी माटा, पिकी, सरिता आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran