संवाद सूत्र, निगदू : प्रधानमंत्री फसल बीमा के नाम प्रीमियम जमा कराने वाले किसान अब क्लेम राशि के लिए दर-दर भटक रहे हैं। भारतीय स्टेट बैंक की शाखा में क्षेत्र के किसानों की फसल बीमा प्रीमियम के तहत राशि काटी गई थी लेकिन उन्हें अभी तक प्रीमियम का मुआवजा नहीं मिल पाया है। किसान कभी बैंक तो कभी बीमा कंपनी के पास जा जाकर थक चुके हैं। क्षेत्र के किसान सदा राम,अन्नत राम, देवेन्द्र ¨सह, स¨वद्र ¨सह, गुरबाग ¨सह, म¨हद्र शर्मा निगदू, छतर पाल का कहना है कि उनके खाते से बैंक की ओर से फसल बीमा योजना के तहत राशि काटी गई थी लेकिन फसल खराब होने के बाद मुआवजा न मिलने पर वो कर्जे के नीचे दबे हुए हैं। कस्बे में सभी बैंकों का फसल बीमा का क्लेम आ चुका है। भारतीय स्टेट बैंक शाखा निगदू में उन्हें क्लेम का भुगतान नहीं किया जा रहा है। आखिरकार किसानों ने सीएम ¨वडों का सहारा लेना पड़ा। सीएम ¨वडों में जांच अधिकारियों का कहना है कि किसानों के खाते से भारतीय स्टेट बैंक शाखा निगदू की ओर से फसल बीमा

प्रीमियम की जो राशि काटी गई थी वह राशि बीमा कंपनी के पास नहीं भेजी गई है। जिसकी वजह से किसानों को मुआवजा नहीं मिला है। किसानों का कहना है कि सीएम ¨वडों में शिकायत देने के बाद भी अगर उनकी समस्या का कोई हल नहीं हुआ तो वो उपभोक्ता अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे। गुमराह कर रहे अधिकारी : अनंत राम

गांव पस्ताना के गांव किसान अनंत राम का कहना है कि संबंधित बैंक के अधिकारी उन्हें गुमराह कर रहे हैं। बैंक अधिकारी बोलते हैं कि बीमा कंपनी ने अपना काम नहीं किया जिसके कारण उनका क्लेम नहीं आया है। वहीं बीमा कंपनी के अधिकारी बोलते हैं कि बैंक अधिकारियों ने उनकी काटी हुई राशि को बीमा पोर्टल पर नहीं दिखाया है। दूसरे बैंकों ने दे दी मुआवजा राशि : स¨वद्र ¨सह

निगदू निवासी किसान स¨वद्र ¨सह का कहना है कि क्षेत्र में अन्य बैंकों में तो बीमा कंपनी की ओर से क्लेम भेज दिया गया है लेकिन भारतीय स्टेट बैंक शाखा में अभी तक किसानों के खाते से रुपये काटने के बावजूद मुआवजा नहीं मिला है। जिसके कारण दर-दर की ठोकरें खाकर कर्जे के नीचे दबा हुआ है। सीएम ¨वडो से कुछ जांच सरकी : सदा राम

किसान सदा राम का कहना है कि प्रदेश सरकार की ओर से भ्रष्टाचार को खत्म करने का जो ¨ढढोरा पीटा जा रहा है वह नाकामयाब दिख रहा है। अन्नदाताओं के खाते से फसल बीमा की राशि काटने के बाद बैंक अधिकारियों की गलती के कारण उन्हें भटकना पड़ रहा है। मुख्यमंत्री ¨वडों में दी शिकायत में जांच अधिकारियों ने बैंक की गलती को सही ठहराया है जिसके लगता है कि उनकी समस्या का कोई हल हो सकता है। बैंक अधिकारी ने किया धोखा : देवेंद्र ¨सह

किसान देवेंद्र ¨सह का कहना है कि संबंधित बैंक में प्रबंधक ने उनके साथ धोखा किया है। उनके खातों से हजारों रुपये की राशि को काट कर उन्हें गुमराह किया जा रहा है। बैंक अधिकारी की ओर से किसानों के साथ किए गए धोखे की गहनता से जांच की जाए और कार्रवाई की जाए।

Posted By: Jagran