संवाद सहयोगी, घरौंडा : नवविवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के मामले में गिरफ्तारी ना होने पर ग्रामीणों ने एसडीएम कार्यालय का घेराव कर सरकार व पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। प्रदर्शनकारियों ने तहसीलदार को चेतावनी दी कि चुनावों का बहिष्कार कर दिया है। लिहाजा उनके गांव में चुनाव से संबंधित कोई भी सामग्री ना भेजी जाए। आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर ग्रामीणों ने सीएम के नाम तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा है। ग्रामीणों का कहना है कि सोनिया को न्याय न मिलने पर चूल्हा चौका लेकर सड़कों पर उतरेंगे।

पुंडरी गांव के लोग सुबह ही गांव एकत्रित होना शुरू हो गए थे। महिला-पुरुषों की संख्या सैकड़ों में पहुंची तो लोगों ने ट्रैक्टर-ट्रॉलियों व अपने निजी वाहनों के जरिये घरौंडा एसडीएम कार्यालय की ओर कूच कर दिया। ग्रामीणों में इस बात को लेकर गुस्सा था कि 11 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस की कार्रवाई अधूरी है। पुलिस ने मात्र खानापूर्ति करने के लिए मृतक सोनिया के पति व सास को गिरफ्तार किया है लेकिन सोनिया को मारने वाले सूत्रधार ननद व देवर हैं। उनकी गिरफ्तारी अभी तक नहीं हो पाई है।

सरपंच प्रतिनिधि सुरेंद्र सिंह, पूर्व ओमप्रकाश, पंच हवा सिंह, कंवरभान, मनीराम, पूर्व सरपंच रामनरेश, रोहताश, रामनिवास शर्मा, महेंद्र, विनोद त्यागी, प्रमोद शर्मा, राकेश, रविद्र कहना है कि बीती 11 अप्रैल को सोनिया का शव पंखे के फंदे में झुलता मिला था। घटना के बाद ही ससुराल पक्ष के लोग मौके से फरार हो गए थे। पुलिस ने मायका पक्ष की शिकायत पर मृतका के पति, ननद, सास व देवर पर हत्या का मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी थी। पुलिस मामले को लेकर लीपापोती करने में जुटी हुई है। पुलिस ने केवल मृतका के पति व सास को ही गिरफ्तार किया है। जबकि आरोपित ननद व देवर को पुलिस अभी तक भी गिरफ्तार नहीं कर पाई है।

तहसीलदार रमेश कुमार ने बताया कि पुंडरी के ग्रामीणों ने आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा है। इस ज्ञापन को जिला उपायुक्त के माध्यम से सीएम ऑफिस में भिजवा दिया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस