संवाद सूत्र, निसिग : गांव सिरसी की गोचरान भूमि पर कंकरीट मिश्रण प्लांट लगाए जाने की जांच को ठंडे बस्ते में डालने का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों ने नारेबाजी की। बैठक की अध्यक्षता पूर्व सरपंच सुशील गौतम ने की। ग्रामीणों का आरोप है कि अधिकारियों ने जानबूझ कर जांच को प्रभावित किया है। गोचरान की करीब 4 एकड़ भूमि में करनाल-कैथल मार्ग को चौड़ा करने के कार्य करने वाले ठेकेदार ने इस भूमि में कंकरीट मिश्रण करने का प्लांट लगा लिया था। यह मिश्रण प्लांट इस भूमि में करीब 2 साल लगातार चलता रहा। इस मामले का पर्दाफाश होंने के उपरांत बीडीपीओ सुमित चौधरी की ओर से जांच की गई। प्रशासन द्वारा इस भूमि को ठेकेदार से मुक्त भी करवा दिया गया।

पूर्व सरपंच सुशील गौतम ने बताया कि इस मामले को दबाया जा रहा है। सवाल उठता है कि किसकी अनुमति से ठेकेदार इस जमीन का प्रयोग करता रहा है जबकि यह जमीन कैथल-करनाल मार्ग के बिलकुल साथ लगती है। इस अवसर पर पूर्व सरपंच सुशील गौतम, कृष्ण गोपाल, प्रदीप गौतम, सोहन लाल, जयप्रकाश, धर्मपाल, शशीकांत, सतीश, सोनू पाल, सुरेश पाल, रीटा रानी, बबली, सरोज, बिमला देवी, दर्शना देवी मौजूद थे। वहीं, जिला विकास एंव पंचायत अधिकारी राजबीर खुंडिया ने बताया कि ठेकेदार द्वारा कंकरीट मिश्रण लगाने के मामले की जांच चल रही है। आरोपित के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। ग्रामीणों द्वारा जांच को प्रभावित करने का आरोप निराधार है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021