संवाद सहयोगी, घरौंडा: फसल अवशेषों में होने वाली आगजनी को रोकने के लिए प्रशासन ने ग्राम पंचायतों को जिम्मेदारी सौंपी है। बीडीपीओ कार्यालय के सभागार में एसडीएम पूजा भारती ने सरपंचों की बैठक ली। एसडीएम ने कहा कि अवशेष जलाने से पर्यावरण में जहर जमा हो रहा है।

सोमवार को खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी कार्यालय के सभागार में एसडीएम डा. पूजा भारती ने सरपंचों की बैठक ली। ग्राम पंचायतों को निर्देश जारी किए गए कि सरपंच अपने-अपने गांव में किसानों को फसल अवशेष प्रबंधन के प्रति जागरूक करें और यह सुनिश्चित करें कि कोई किसान फानों में आग न लगाए। एसडीएम ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में फसल अवशेषों को जलाया जा रहा है। अवशेषों में लगी आग से पर्यावरण को भारी नुकसान हो रहा है। नतीजतन, वातावरण में धुआं ही धुआं नजर आ रहा है और लोगों को भी सांस व आंख संबंधी परेशानियां आ रही हैं।

बैठक में सरपंच एसोसिएशन के प्रधान व डिगर माजरा गांव के सरपंच अमर सिंह, सरपंच रणजीत सिंह, सरपंच जितेंद्र नेहरा, सरपंच प्रतिनिधि महक सिंह बीजना, संदीप कुमार शेखपुरा ने कहा कि गरीब किसानों के पास फसल अवशेष के लिए संसाधन नहीं हैं। इस मौके पर बीडीपीओ गुरलीन कौर, कृषि विभाग के एसडीओ डा. दिनेश शर्मा, खंड कृषि अधिकारी डा. राहुल दहिया, एडीओ डा. बलवान दहिया, पूर्व कृषि अधिकारी डा. राजेंद्र सिंह मौजूद रहे।

Edited By: Jagran