संवाद सहयोगी, घरौंडा : प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के तहत ऋण भुगतान प्रक्रिया की धीमी रफ्तार पर उपमंडलाधिकारी ने बैंक प्रबंधकों पर नाराजगी जाहिर की है। उपमंडलाधिकारी ने सभी बैंक प्रबंधकों को एक सप्ताह के अंदर लंबित ऋण प्रार्थना पत्रों को निपटाने के निर्देश जारी किए है, स्ट्रीट वेंडरों को पीएम स्वनिधि योजना का लाभ मिल सके।

एसडीएम डा. पूजा भारती ने वीरवार को एसडीएम कार्यालय में पीएम स्वनिधि योजना को लेकर नपा अधिकारियों व बैंक प्रबंधकों के साथ समीक्षा बैठक की। पीएम स्वनिधि योजना के तहत ऋण के लिए 237 प्रार्थना पत्र प्राप्त हुए है, जिसमें से बैंकों द्वारा 78 ऋण स्वीकृत किए गए है और अब तक केवल मात्र 34 रेहड़ी चालकों को ही बैंक द्वारा लोन का भुगतान किया गया है। जिस पर एसडीएम ने नाराजगी जाहिर की और कहा कि बैंक प्रबंधक कछुए की चाल से कार्य कर रहे है, जोकि सही नहीं है। पीएम स्वनिधि योजना सरकार की एक महत्वपूर्ण योजना है। जिसके तहत रेहड़ी वालों को 10 हजार रुपये तक का लोन मुहैया करवाया जाता है। सैकड़ों लोग लोन के लिए अप्लाई कर रहे है और बैंकों द्वारा महज कुछ लोगों को ही भुगतान किया गया है। एसडीएम सख्त निर्देश जारी किए कि सभी बैंक प्रबंधक एक सप्ताह के अंदर लंबित ऋण आवेदनों को निपटाएं।

23 नवंबर को लगाया जाएगा कैंप

पीएम स्वनिधि योजना के तहत 23 नवंबर को दोपहर तीन बजे बीडीपीओ कार्यालय में कैंप लगाया जाएगा। जिसमें पात्र व्यक्तियों को 10 हजार रुपए तक का लोन मुहैया करवाया जाएगा। एसडीएम डॉ. पूजा भारती ने बताया कि लोन रेहड़ी वालों को दिया जाएगा और किसी तरह की सिक्योरिटी नहीं ली जाएगी। साथ ही नियमित भुगतान पर सरकार द्वारा सात प्रतिशत ब्याज अनुदान के रूप में अदा किया जाएगा। इसके अतिरिक्त जो स्ट्रीट वेंडर डिजिटल लेन-देन करता है उसको 1200 रुपये तक का कैशबैक भी प्राप्त होगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस