जागरण संवाददाता, करनाल : नेशनल हाईवे पर हुए हादसे में एक स्कूटी सवार व्यक्ति की मौत हो गई। तरावड़ी निवासी सुनील ने बताया कि उसके पिता हवा सिंह शादी पार्टियों में आईसक्रीम की सप्लाई करने का काम करते थे। मंगलवार को वह और उसका पिता बाइक पर सवार होकर तरावड़ी से घरौंडा आइसक्रीम देने के लिए गए थे। जब वह शाम को घरौंडा में आईसक्रीम देकर वापस घर तरावड़ी आ रहे थे तो उसके पिता स्कूटी पर उससे आगे चल रहे थे। जब उसके पिता हवा सिंह अपनी स्कूटी को चलाते हुए बसताड़ा के पास पहुंचे तो एक कार चालक ने उन्हें टक्कर मार दी। जिससे उसके पिता गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। आरोपित कार चालक मौके से फरार हो गया। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के बाद स्वजनों को सौंप दिया तो वहीं आरोपित कार चालक के खिलाफ केस भी दर्ज कर लिया है।

बदमाशों के हौसले बुलंद, दो महिलाओं से कानों की बालियां छीनकर फरार

जागरण संवाददाता, करनाल : बदमाशों के हौसले बुलंद होते जा रहे हैं, जिसके चलते छीनाझपटी की वारदातें बढ़ने लगी है। बदमाशों ने एक साथ दो महिलाओं को निशाना बनाया, जिनमें 92 वर्षीय एक बुजुर्ग भी शामिल है। सेक्टर-13 निवासी बुजुर्ग महिला सावित्रि देवी ने बताया कि वह मंगलवार शाम को घर के अंदर बरामदे में बैठी थी। तभी एक अज्ञात नकाबपोश युवक उसके पास आया और पहले नमस्ते की फिर उसके कानों से सोने की बालियां झपट कर ले गया। इस दौरान उसकी पुत्रवधु पूजा कर रही थी। मेरी आवाज सूनकर वह उस युवक के पीछे दौड़ी, लेकिन युवक बिना नंबर की बाइक पर सवार होकर फरार हो गया। वहीं दूसरी वारदात में गांव शाहपुर वासी कृष्णा देवी ने बताया कि मंगलवार को वह घर से अपने प्लाट में उपले बनाने के लिए गई हुई थी। उस समय करीब 12 बजे हुए थे। एक युवक बाइक पर सवार होकर आया और उससे नरेश के घर का पता पूछने लगा। उसने पता बता दिया और उपले बनाने लगी। युवक दोबारा आया और उसके कानों से बालियां झपट कर बाइक पर सवार होकर फरार हो गया। उक्त वारदातों में दोनों महिलाएं घायल भी हो गई। हालांकि पुलिस ने दोनों वारदातों के संबंध में अलग-अलग केस दर्ज कर लिया है, लेकिन फिलहाल किसी आरोपित का सुराग नहीं लगा पाई। बता दें कि एक सप्ताह पहले ही सेक्टर 13 वासी महिला के कान की बाली बाइक सवार बदमाश उस समय खींच ले गया था जब वह अपनी बेटी के साथ बाजार से स्कूटी पर सवार होकर घर लौट रही थी। इससे वह हादसे का शिकार होने से भी बच गई। यहीं नहीं इसी माह इस तरह की करीब छह अन्य वारदातें भी हो चुकी है, लेकिन पुलिस आरोपितों तक नहीं पहुंच पा रही जबकि बढ़ती वारदातों से महिलाओं में भय बनने लगा है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021