निसिग ग्रामीण पंचायत के उपचुनाव फोटो 37, 38, 39 संवाद सूत्र, निसिग: निसिग ग्रामीण पंचायत के उपचुनाव मंगलवार को शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हुए। इसमें सरबजीत सिंह बरियार ने अपने इकलौते प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार को 340 वोटों से हराकर शानदार जीत हासिल की। मतदान केंद्र से बाहर निकलते ही समर्थकों के हुजूम ने उन्हें रुपयों व फूलों की मालाएं पहनाकर सम्मान दिया। वहीं समर्थकों की ओर से जमकर आतिशबाजी की गई। जीत के बाद सरबजीत सिंह ने समर्थकों सहित गुरुद्वारा रोड़ी साहिब व श्री सनातन धर्म शिव मंदिर में माथा टेक आशीर्वाद लिया। ढ़ोल की थाप के बीच खुली छत की कार में धूमधाम से उन्हें घर ले जाया गया। रास्ते में जगह-जगह समर्थकों ने पुष्पवर्षा से स्वागत कर बधाई दी। घर पर भी बधाई देने वालों का तांता लगा रहा।

बीडीपीओ सुमित चौधरी ने बताया कि कोर्ट के आदेश पर जिला प्रशासन की ओर से सरपंच पद पर निसिग ग्रामीण पंचायत के उपचुनाव करवाए गए। दो बूथों पर 1143 मतदाताओं में 891 ने मतदान किया। सरबजीत सिंह ने 614 व नवाब सिंह ने 274 वोट हासिल किए। तीन लोगों ने नोटा का बटन दबाया। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में सुबह आठ बजे वोटिग शुरू होने से पहले हीे मतदाताओं की दोनों बूथों पर लंबी कतारें लग गई थी। चार बजे तक मतदाताओं ने वोट डाले। इस दौरान प्रशासनिक अधिकारियों की मतदान केंद्र पर पैनी नजर रही। बीडीपीओ निसिग सुमित चौधरी ने केंद्र पर पहुंच स्थिति का जायजा लिया। डयूटी मजिस्ट्रेट रामकुमार व पंचायतीराज विभाग के एसईपीओ चमनलाल, सचिव विक्रम, मुकेश कुमार व आनंद हुड्डा मौजूद रहे। डीएसपी असंध गजेंद्र सिंह ने सुरक्षा इंतजाम का जायजा लिया। फर्जी वोट डालने वालों को नहीं मिला प्रवेश

निसिग थाना प्रभारी रामफल ने बताया कि मतदान के दौरान वोटरों के अलावा किसी अन्य व्यक्ति को मतदान केंद्र में प्रवेश नहीं करने दिया। गांव में अनुपस्थित वोटरों की सूची डीसी की तरफ से पुलिस को भेजी गई थी। केंद्र के मुख्य गेट पर ही इसकी बारीकी से जांच करके बूथ तक जाने दिया गया। अतिरिक्त रिजर्व पुलिस बल की मदद से उपचुनाव निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण ढं़से करवाए गए, जिसमें आमजन का भी पूरा सहयोग रहा। एक प्लान में बन चुके तीन सरपंच

निसिग ग्रामीण पंचायती चुनाव में 27 मई 2017 को सरदार गुरदेव सिंह कुल सात वोटों से जीत हासिल कर सरपंच बने थे, जिनपर फर्जी वोट डलवाने का आरोप लगने पर कोर्ट में केस चला गया। इन्हें सस्पेंड कर बहुमत वाले पंच को कार्यकारी सरपंच बनाया गया। जबकि मंगलवार को उपचुनाव में तीसरा सरपंच सरबजीत सिंह को चुना गया। हरप्रीत ने किया पहली बार मतदान

केंद्र पर कई नए मतदाताओं ने पहली बार मतदान कर खुशी का अनुभव किया। हरप्रीत कौर ने देश के संविधान पर गर्व महसूस किया, जिसकी बदौलत उसे पहली बार वोट डालने का मौका मिला। केंद्र पर पहुंचे 90 वर्षीय बुजुर्ग जगदीश सिंह व बीमार महिला बलविद्र कौर ने भी मतदान में रुचि दिखाई। उन्हें व्हीलचेयर पर बैठाकर बूथ पर ले जाया गया। स्वजनों की मदद से कई लाचार बुजुर्गों ने मतदान किया।

Edited By: Jagran