संवाद सहयोगी, घरौंडा: पिछले चार दिन हड़ताल चलने के बाद मंडी में धान की आवक ने जोर पकड़ लिया है। पिछले तीन दिनों में लगभग 52 हजार क्विंटल धान मंडी में आ चुका है। पिछले वर्ष 24 सितंबर तक 87 हजार क्विटल धान आई थी। 25 सितंबर को अनाज मंडी में फिर हड़ताल रहेगी। मंडी के प्रधान रामलाल गोयल ने मंडी बंद रखने के लिए आढ़तियों को आह्वान किया है।

नई अनाज मंडी में धान की आवक पिछले एक माह से हो रही है, जिससे मंडी में 22 सितम्बर से पहले 15 हजार क्विटल धान आई थी। अभी तक मंडी में 65 हजार क्विटल धान आ चुकी है। पिछले वर्ष 24 सितम्बर तक 87 हजार क्विटल धान आई थी। तीन कृषि विधेयकों के कारण मंडी में चार दिन की हड़ताल होने के कारण धान की आवक बंद हो गई थी। किसानों ने काफी परेशानी हुई। 22 सितंबर से हड़ताल समाप्त हो गई है। हड़ताल खत्म होने के बाद किसानों ने धान की कटाई काम जोरों पर शुरू कर दी है। पिछले तीन दिन के अंदर लगभग 52 हजार क्विटल धान में मंडी में आ चुकी है। तीन दिन के अदंर रिकॉड तोड़ धान आई है। किसानों का कहना है कि मौसम भी बदलने की संभावना जताई जा रही है और 25 सितंबर को फिर मंडी में हड़ताल है। ंडी प्रधान रामलाल गोयल ने बताया कि किसानों व आढ़तियों का भाईचारा है। भाकियू के जिलाध्यक्ष अजय सिंह राणा ने बताया कि केंद्र सरकार ने तीन बिल पास करके किसान व मजदूर के साथ अन्याय किया है। विरोध में 25 सितंबर को हड़ताल रखी गई है।

Edited By: Jagran