रोहित लामसर, तरावड़ी

कस्बे के बाशिदों की कई वर्ष पुरानी रेलवे अंडरपास की मांग क्यों न पूरी हो गई हो, लेकिन अभी तक भी इस रेलवे अंडरपास का लोगों को फायदा नही मिल रहा है। बरसात के मौसम में इसके चलते हालात बेहद चिताजनक हो गए हैं। हादसों का खतरा दिन-रात बना हुआ है। इसके बावजूद जिम्मेदार महकमों की अनदेखी का सिलसिला टूटने का नाम नहीं ले रहा।

हालांकि, रेलवे विभाग की तरफ से 90 फीसद काम पूरा कर लिया गया है, लेकिन अभी पीडब्ल्यूडी का काम अधूरा है। बता दें कि गहराई ज्यादा होने के कारण तरावड़ी रेलवे अंडरपास के नीचे थोड़ी सी बारिश में ही जलभराव की स्थिति पैदा हो जाती है। पीडब्लयूडी की तरफ से रेलवे अंडरपास के नीचे सड़क बनाने और पलस्तर बनाने का काम अभी पूरा नहीं किया गया है। हालांकि, इन दिनों यहां विभाग का काम जारी है, लेकिन अभी लोगों को इस अंडरपास का लाभ उठाने के लिए इंतजार करना होगा। बता दें कि रेलवे अंडरपास शुरू न होने के चलते एक तरफ जहां सैकड़ों दुकानदारों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है वहीं तरावड़ी कस्बे के लोगों को भी लंबा रास्ता तय करना पड़ता है। इसे लेकर उनमें गहरे रोष की स्थिति बनी है। बरसात के मौसम में चिता और अधिक बढ़ गई है, जिसे देखते हुए उन्होंने अंडरपास का काम जल्द पूरा किए जाने की मांग उठाई है। शीघ्र होगा समाधान

पीडब्ल्यूडी के एसडीओ अमित महला ने बताया कि तरावड़ी अंडरपास पर प्लास्टर लगाने और जल निकासी की पुख्ता व्यवस्था कराने का चल रहा है। बरसात में ऐसी स्थिति बन ही जाती है। पूरा प्रयास है कि एक माह में समस्या का पूरा समाधान करने के साथ ही अंडरपास की सौगात क्षेत्रवासियों को दे दी जाए।

Edited By: Jagran