जागरण संवाददाता, कुरुक्षेत्र :

उपायुक्त डॉ. एसएस फुलिया ने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा वर्कर व एएनएम की सेवाओं को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। इनकी सेवाओं को जहन में रखते हुए ही तीनों वर्गों के कर्मचारियों को राष्ट्र निर्माण की सच्ची सिपाही की संज्ञा दी गई है। इस लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन तीनों वर्गों की कर्मचारियों से सीधा संवाद कर रहे हैं। वे मंगलवार को एनआइसी कार्यालय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा वर्कर व एएनएम से सीधा संवाद कार्यक्रम के उपरांत बातचीत कर रह थे। इससे पहले प्रधानमंत्री ने तीनों वर्गों की कर्मचारियों से सीधा संवाद किया। वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से प्रधानमंत्री ने उन्हें स्वच्छ राष्ट्र के निर्माता की संज्ञा दी। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि स्वच्छता और स्वास्थ्य का सीधा संबंध पोषण से है और बच्चे के सही पोषण के प्रति जागरूक करने की सबसे बड़ी जिम्मेदारी इन्हीं के कंधों पर है।

उपायुक्त ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सीधे संवाद से आंगनवाड़ी वर्करों व अन्य कर्मचारियों को प्रेरणा मिली कि देश में स्वस्थ मातृत्व की कल्पना करना बहुत मुश्किल है, लेकिन उनकी सरकार ने इसको संभव करने का बीड़ा उठाया है। इस मौके पर सिविल सर्जन डॉ. सुखबीर ¨सह, डिप्टी सीएमओ एनपी ¨सह, डिप्टी सीएमओ अनुपमा, सीडीपीओ मौजूद थे।

Posted By: Jagran