जागरण संवाददाता, करनाल

डीसी डॉ. आदित्य दहिया ने बताया कि वन स्टॉप सेंटर फॉर वूमेन (सखी) ऐसा केंद्र है जहां एक ही छत के नीचे पीड़ित महिला को सभी सुविधाएं जैसे स्वास्थ्य, सुरक्षा, पुलिस सहायता, कानूनी सलाह और परामर्श दिया जाता है। पीड़ित महिला को पांच दिन रहने की सुविधा भी प्रदान की जाती है। इस सेंटर में ¨हसा से प्रभावित महिलाओं को उनके परिवार से मिलाकर समझौता करवाने के लिए मदद की जाती है। इसके अलावा केंद्र में यौन उत्पीड़न और भावनात्मक स्तर या फिर अन्य कारणों से प्रभावित महिलाओं को भी सहायता प्रदान की जाती है। उन्होंने कहा कि हमें पीड़ित महिला को महिला आश्रम में बने इस सेंटर तक अवश्य पहुंचाना चाहिए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस