संस, गुहला-चीका : सर छोटू राम जनकल्याण ट्रस्ट के महासचिव एडवोकेट दलबीर नैन ने कहा कि जिस प्रकार से पंजाब सरकार ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर एमएसपी व कांट्रेक्ट फार्मिंग पर कानून बनाया है, उसी तर्ज पर हरियाणा सरकार भी किसानों के हितों में कानून बनाए। नैन ने कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए तीनों कानूनों का देश भर के किसान विरोध कर रहे हैं। किसानों के विरोध के बावजूद सरकार इन काले कानूनों को किसानों पर थोप रही जोकि निदनीय है। नैन ने कहा कि हरियाणा विधान सभा में आधे से अधिक मौजूदा विधायक किसान परिवारों से संबंध रखते हैं। ये विधायक किसानों की हालत के बारे में अच्छी प्रकार से जानते हैं, ऐसे में इन विधायकों को चाहिए कि वे विधानसभा में इन कानूनों के विरोध में आवाज उठाएं व इन्हें निरस्त करने के लिए सरकार के ऊपर दबाव बनाएं। नैन ने कहा कि पांच नवंबर से शुरू होने वाले हरियाणा विधानसभा के सत्र में विधायक इन कानूनों को निरस्त करवाने के लिए सरकार पर दबाव बनाएं। इस अवसर पर गुरजंट, नवीन चीका, विशाल नैन, शुभम चीका, गुरपाल गगड़पुर, कुलदीप बेनीवाल भी मौजूद रहे।

Edited By: Jagran