जागरण संवाददाता, करनाल : पढ़ाई में आने वाली समस्या के लिए अब राजकीय स्कूलों में कक्षा नौवीं से बारहवीं तक के विद्यार्थी अपने शिक्षक से मुलाकात कर सकेंगे। इसके लिए शिक्षा विभाग ने पत्र जारी किया है। आदेश के अनुसार 21 सितंबर के बाद छात्र-छात्राएं अपने स्कूल जाकर शिक्षा से संबंधित किसी तरह के परामर्श ले सकेंगे। लॉकडाउन के बाद ऑनलाइन पढ़ाई के चलते चार माह से विद्यार्थी पढ़ाई में आने वाली समस्या के लिए मोबाइल से शिक्षकों से संपर्क कर रहे थे। ऐसे में कई बार समस्या हल नहीं हो पाती थी। विद्यार्थियों को स्कूलों में आने के लिए अपने अभिभावकों से लिखित अर्जी साथ लानी होगी जो स्कूल में जमा करवानी होगी। इसके अलावा, शिक्षा विभाग ने स्कूलों में बच्चों की आवाजाही से पहले संक्रमण बचाव को लेकर तैयारियां शुरू कर दी हैं, साथ ही परिसर के एक हिस्से में सिटिग रखने की तैयारी है। इस दौरान बच्चों व उनके अभिभावकों से स्कूल खोलने पर भी विचार लिए जाएंगे। अगर 60 फीसद से अधिक बच्चे स्कूल खोलने का समर्थन करते हैं तो जल्द ही बच्चों की कक्षाएं लग सकती हैं। उप-जिला शिक्षा अधिकारी चंद्रेश विज ने बताया कि उच्चाधिकारियों के आदेश पर स्कूल प्राचार्यों को बच्चों से मुलाकात के लिए अपनाए जाने वाले प्रोटोकॉल के लिए तैयार रहने के बारे में चर्चा की जा रही है ताकि संक्रमण से बचाव के नियमों का पालन हो सके।

Edited By: Jagran