जागरण संवाददाता, करनाल: डीसी निशांत यादव ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत स्वच्छता बनाए रखने के साथ इससे जुड़ी गतिविधियों की समीक्षा भी होनी चाहिए।

बुधवार को लघु सचिवालय के सभागार में आयोजित बैठक में उपायुक्त एवं स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) की जिलास्तरीय कमेटी के चेयरमैन निशांत यादव ने अध्यक्षता की। बैठक में अतिरिक्त उपायुक्त वीना हुड्डा और जिला परिषद के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर गौरव कुमार भी उपस्थित रहे। जिला परिषद के सीईओ ने बताया कि खंड और ग्राम पंचायत स्तर पर गतिविधियों की नियमित समीक्षा करना चाहिए। इसी प्रकार तकनीकी विशेषज्ञ से कसंलटेंट के तौर पर मदद लेकर स्वच्छ भारत के तहत विभिन्न कार्यकलाप कर समयबद्ध तरीके से स्वच्छता के उद्देश्य पूरे करने, ग्राम पंचायतों में ठोस और तरल अपशिष्ट प्रबधंन और फील्ड में भ्रमण करके कार्यक्रमों की निगरानी करना कमेटी के कार्यो में शामिल है। उन्होंने मिशन की गतिविधियों से भी अवगत कराया। गोबरधन परियोजना पर चर्चा

सीईओ ने बताया कि इंद्री के गांव श्रवणमाजरा को परियोजना के तहत चयनित किया गया था। प्रदेश के सिरसा, हिसार व भिवानी जिलों के एक-एक गांव को पायलट प्रोजेक्ट के रूप में लेकर परियोजना पर काम हो चुका है जबकि करनाल में काम चल रहा है। प्रदेश के सभी जिलों के एक-एक गांव में गोबरधन परियोजना के मॉडल को विकसित किया जाए। श्रवणमाजरा में 229 हाऊस होल्ड हैं। यहां 400 क्यूबिक मीटर का प्लांट लगाया जाना है। परियोजना पर 50 लाख रुपये की राशि खर्च होगी जो स्वच्छ भारत मिशन की ओर से प्राप्त हो चुकी है। परियोजना पूरी होने पर गांव के हर घर में पाइपलाइन से गोबर गैस पहुंचाई जाएगी।

Edited By: Jagran