जागरण संवाददाता, करनाल : पशुपालन विभाग के उप निदेशक डा. राजपाल टूर्ण ने कहा कि जिले में 14 हजार से अधिक के पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड बनवाए जा चुके हैं। सरकार की ओर से शुरू की गई इस योजना का लाभ किसान 31 जुलाई तक उठा सकते हैं। उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा श्वेत क्रांति को बढ़ावा देने के लिए चलाई जा रही पशुधन क्रेडिट कार्ड योजना किसानों के लिए बहुत फायदेमंद है। जिसमें बैंकों द्वारा बिना धरोहर पशुपालक को पशुओं की एवज में क्रेडिट कार्ड पर एक लाख 60 हजार तक की लिमिट का लाभ दिया जाना है। जबकि इससे अधिक की लिमिट पर पशुपाल को सिक्योरिटी देनी होगी। किसान लिमिट पर तीन लाख तक की राशि का लाभ ले सकता है। इससे अधिक की लिमिट का योजना के तहत कोई प्रावधान नहीं है। लिमिट का ब्याज सात की बजाय 4 प्रतिशत देय होगा। उन्होंने बताया कि जिले में 40 हजार से अधिक किसान पशु पालकों के आवेदन स्वीकार कर योजना से जोड़ा जाएगा, जो पशु चिकित्सकों के माध्यम से संभव होगा। इन पशुओं पर बनेगी बैंक लिमिट

डा. राजपाल टूर्ण ने बताया कि पशुपालक किसान दुधारू गाय, भैंस, भेड़ बकरी मुर्गी व ब्रायलर की लिमिट बनवा कर योजना का लाभ ले सकता है। जिसके पास जितने अधिक पशु होंगे, पशुपालक उतनी ही अधिक लिमिट का लाभ ले सकेगा। किसानों के आवेदन 31 जुलाई तक स्वीकार किए जाएंगे। योजना का लाभ लेने के इच्छुक पशुपालक किसान पशुओं चिकित्सक से संपर्क कर विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। उप निदेशक ने बताया कि जिले में 1.56 लाख से अधिक गाय, 2.05 लाख से अधिक भैंस, 9356 बकरी, 10855 भेड़ व 10352 सुअर हैं। किसान इस योजना का लाभ आसानी से उठा सकते हैं। पशुपालन विभाग की ओर किसानों को सभी प्रकार की जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है और उनका सहयोग किया जा रहा है।

Edited By: Jagran