जागरण संवाददाता, करनाल: क्षेत्र में दो दिन से रुक-रुककर हो रही बारिश से जनवरी माह में मानसून जैसा आभास करा दिया है। बारिश सोमवार रात से चलती रही। हालांकि बूंदाबांदी है, लेकिन यह सिलसिला लगातार जारी है। बारिश से हालात ऐसे हो रहे हैं कि जैसे मानसून की झड़ी लगी हो। मौसम विभाग के मुताबिक उत्तर भारत के राज्यों पंजाब, हरियाणा, उत्तरी राजस्थान और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में 4-5 जनवरी को व्यापक रूप से बारिश देखने को मिली है। अनुमान है कि पर्वतीय क्षेत्रों में भी आठ जनवरी तक कई जगहों पर मध्यम से भारी बारिश और बर्फबारी देखने को मिल सकती है। कुछ भागों में दिन का तापमान सामान्य से नीचे रह सकता है। मैदानी इलाकों में सप्ताह के आखिर में शीतलहर की वापसी हो सकती है जब न्यूनतम तापमान औसत से नीचे चला जाएगा। न्यूनतम तापमान में भारी इजाफा

बरसात से न्यूनतम तापमान में काफी बढ़ोतरी देखने को मिली है। मंगलवार को न्यूनतम तापमान 15.0 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। वहीं अधिकतम तापमान में भी बढ़ोतरी के साथ 16.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। हवा 3.2 किलोमीटर प्रतिघंटा की औसत रफ्तार से चली। सुबह के समय नमी की मात्रा 100 फीसदी दर्ज की गई। केंद्रीय मृदा लवणता अनुसंधान संस्थान के मुताबिक आने वाले 24 घंटे में बादल छाए रह सकते हैं। धुंध के लिए रहें तैयार

मौसम विभाग की मानें तो बुधवार को भी बादल छाये रह सकते हैं। क्षेत्र में गहरी धुंध छा सकती है, जिसका जनजीवन पर व्यापक प्रभाव पड़ सकता है। धुंध गिरने का यह सिलसिला आठ जनवरी तक जारी रहने की संभावना जताई गई है। हालांकि इसका फसलों पर तो ज्यादा प्रभाव देखने को नहीं मिलेगा, जनजीवन पर जरूर पड़ेगा। धुंध से सारी गतिविधियां ठहर सी जाती हैं। सड़क और रेलमार्ग दोनों पर खासा प्रभाव पड़ता है।

Edited By: Jagran