जागरण संवाददाता, करनाल: उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम ने उपभोक्ताओं तक बिल पहुंचाने की व्यवस्था की है। इसके लिए निगम ने केंद्रीयकृत आइटी प्लेटफार्म से बिल भेजने के लिए मिस्ड काल आधारित बिल सूचना कार्य क्षमता शुरू की है। उपभोक्ता अब अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर 7087019636 पर मिस्ड काल करेंगे तो तुरंत ही नए बिल की जानकारी उनके पास मोबाइल पर आएगी। एएमएमएस के माध्यम से भेजे गए लिक से बिल की प्रति भी डाउनलोड की जा सकेगी। लिक से न केवल बिजली खाते से जुड़ा मोबाइल नंबर को बदल सकते हैं और बिल का भुगतान किया जा सकता है।

यह स्कीम केवल शहरी क्षेत्रों के आइपीडीएस और आरएपीडीआरपी उपभोक्ताओं के लिए होगी। इससे न केवल उपभोक्ताओं की बिल न मिलने संबंधित परेशानी दूर होगी, बल्कि निगम में भी भीड़ कम होगी।

गौरतलब है कि बिजली उपभोक्ताओं को बिजली न मिलने को लेकर परेशानी रहती है। ऐसे में बहुत सारे उपभोक्ता बिल नहीं भर पाते हैं। इससे निगम को भी राजस्व के तौर पर नुकसान होता है। समस्या को दूर करने के लिए बिजली निगम ने उपभोक्ताओं के लिए यह मिस्ड काल सेवा शुरू की है। केवीआइसी अपडेट कराने वाले उपभोक्ता मोबाइल नंबर से मिस्ड कॉल कर सकते हैं। काल करते ही बिजली बिल सहित पूरी जानकारी आ जाएगी। इसलिए उपभोक्ता अपने केवाईसी को अपडेट करा लें। घर बैठे मिलेगी बिल की सूचना

मिस्ड कॉल से मोबाइल पर बिजली के बिल का ब्योरा मिलने वाली स्कीम करनाल जिले उपभोक्ताओं के भी है। उन्हें निगम कार्यालयों में दौड़ लगाने की जरूरत नहीं होगी। वो घर बैठे बिल संबंधित सूचना प्राप्त कर सकेंगे। बिजली बिल स्मार्टफोन पर मुफ्त उपलब्ध कराया जा रहा है। इससे हजारों उपभोक्ताओं को फायदा होगा। वर्जन

रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से उक्त नंबर पर मिस्ड कॉल करने पर मैसेज के जरिये बिल आएगा। मैसेज पर क्लिक करने पर वो सीधे वेबसाइट पर लेकर जाएगा। जहां से उपभोक्ता नेट बैंकिग और पेटीएम आदि के जरिये अपने बिल को भर भी सकेंगे। बिल भरने के लिए निगम कार्यालय भी नहीं आना पड़ेगा। इससे समय की बर्बाद खत्म होने के साथ खर्च भी कम होगा। इसलिए ज्यादा से ज्यादा उपभोक्ता स्कीम से जुड़ें।

धर्म सुहाग, कार्यकारी अभियंता, यूएचबीवीएन, करनाल।

Edited By: Jagran