जागरण संवाददाता, करनाल : अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल ने बुधवार को लघु सचिवालय के सभागार में गेहूं व सरसों खरीद को लेकर अधिकारियों की बैठक ली। उन्होंने निर्देश दिए कि करनाल शुरू से ही गेहूं उत्पादन का मुख्य जिला रहा है। अगले एक सप्ताह तक मंडियों में गेहूं की भारी आवक होगी, इसे देखते हुए उसकी खरीद और सबसे जरूरी लिफ्टिंग की कार्यवाही तेजी से होनी चाहिए। वरिष्ठ अधिकारी मंडियों में निरंतर दौरा करते रहें, किसी तरह की कोई समस्या पेश आए, तो उसका तुरंत समाधान करें। उन्होंने अधिकारियों से गेहूं और सरसों के भंडारण, क्रेट और बारदाने की स्थिति की भी जानकारी ली।

अब तक 23 मंडियों में 2.04 लाख एमटी गेहूं की खरीद

डीसी विनय प्रताप सिंह ने एसीएस को बताया कि मंगलवार तक जिला की सभी 23 मंडियों में 2 लाख 4 हजार 256 मीट्रिक टन गेहूं की आमद हो चुकी है। अब तक सर्वाधिक आमद निसिग की अनाज मंडी में 46 हजार 167 टन हुई है, इसी प्रकार करनाल की अनाज मंडी में 35 हजार 877 तथा असंध की अनाज मंडी में 3 लाख 11 हजार 117 टन गेहूं की आमद हो चुकी है। घरौंडा की अनाज मंडी में 29 हजार 496 तथा तरावड़ी की अनाज मंडी में 19 हजार 531 टन गेहूं आमद हो चुकी है। न्यूनतम समर्थन मूल्य 1840 रुपये प्रति क्विंटल की दर से गेहूं की खरीद की जा रही है। इस बार मंडियों में बीसीपीए की जगह एचडीएफसी बैंकों की मार्फत आढ़तियों को पेमेंट दी जा रही है, जहां से साथ-साथ किसानों को मिल रही है।

घरौंडा मंडी में 1400 क्विंटल सरसों की हुई खरीद

सरसों की आमद और उसकी खरीद के बारे में डीसी ने बताया कि अब तक जिला की एकमात्र व निश्चित की गई मंडी घरौंडा में 1400 क्विंटल सरसों की आमद हो चुकी है, जो हरियाणा भंडार निगम के स्टोर में भारत सरकार की एजेंसी नैफेड के अकाउंट में रखवाई जा रही है। सरसों की खरीद हैफेड द्वारा की जा रही है।

इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त अनिश यादव, एसडीएम करनाल नरेन्द्र पाल मलिक, घरौंडा के एसडीएम गौरव कुमार, एसडीएम इंद्री सुमित सिहाग एसडीएम असंध अनुराग ढालिया, डीएफएससी अनिल कुमार, डीएम हैफेड मदनलाल पौसवाल तथा एफसीआइ के मैनेजर क्वालिटी कंट्रोल भी उपस्थित रहे।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran