संवाद सहयोगी, घरौंडा : कोविड -19 में ग्रामीण शिक्षा पर बहुत विपरीत प्रभाव पड़ा है। बच्चों के पास सुविधाओं की कमी होने के कारण उनकी पढ़ाई में अड़चनें आ रही हैं। ऐसे में वारित्रा फाउंडेशन ने राहत अभियान के तहत घरौंडा के गांवों में ऑफलाइन लर्निंग किट वितरण अभियान चलाया है।

सोमवार को मोहद्दीनपुर, ढाकवाला गुजरान, ढांकवाला रोड़ान एवं नली कलां गांव के सरकारी स्कूलों में वरित्रा फाउंडेशन के डायरेक्टर व सह-संस्थापक ऐषणा कल्याण व बलजीत यादव के साथ डीईओ राजपाल ने बच्चों को ऑफलाइन लर्निंग किट वितरित की। कोविड -19 के समय में बच्चों की सुरक्षा, स्वास्थ्य और शिक्षा पर बोलते हुए ऐषणा कल्याण ने कार्यक्रम में मौजूद अभिभावकों से बातचीत की तथा उन्हें बच्चों की पढ़ाई की तरफ समय देने के लिए प्रेरित किया ताकि बच्चों में अनुशासन बना रहे और वे पढ़ाई करते रहे। वही बलजीत यादव ने अभिभावकों को वारित्रा लर्निंग किट व इसके उपयोग के बारे में जानकारी दी।

वारित्रा फाउंडेशन के संस्थापक ऐषणा कल्याण और बलजीत यादव द्वारा यह अभियान सितम्बर से शुरू किया गया है जिसमें अब तक 2000 से ज्यादा किट बांटी गई हैं। पहले चरण में करनाल जिले के 16 गांवों के सरकारी प्राइमरी स्कूलों में यह अभियान चला और आज से शुरू दूसरे चरण में 12 से •ा्यादा गांवों के बच्चों तक इसे पहुंचाया जाएगा। वारित्रा फाउंडेशन जनवरी-2018 से ग्रामीण सरकारी स्कूलों के साथ सक्रिय रूप से काम कर रही है। इस अभियान के दौरान मंडल अध्यक्ष जोगिंद्र राणा, मंडल महामंत्री सतबीर गोस्वामी, एडवोकेट चरणसिंह, संदीप, सरपंच सुमित, सरपंच कुलदीप, सरपंच सुरेन्द्र, सचिन राणा, पूर्व सरपंच बहादुर मौजूद रहे।

Edited By: Jagran