संवाद सूत्र, निसिग: गांव प्यौंत में फांसी लगाने से हुई विवाहिता की मौत के मामले में मृतका के परिजनों ने पोस्टमार्टम के बाद शव ससुराल पक्ष को नहीं दिया। वार्ड एक विवाहिता के पिता कृष्ण कुमार शव ले गए। करीब सवा तीन बजे मृतका के परिजनों ने ससुराल पक्ष पर हत्या करने का आरोप लगाते हुए थाना के समक्ष कैथल रोड पर शव रखकर जाम लगा दिया। आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर सरकार व पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। थाना प्रभारी ने उन्हें समझा बुझाकर जाम खुलवाने के भरसक प्रयास किए, लेकिन गुस्साए परिजनों ने एक न सुनी। डीएसपी असंध दलबीर सिंह ने परिजनों को मंगलवार को ही सभी आरोपितों के खिलाफ मामला दर्ज करने की बात बताई। उन्होंने सभी आरोपितों की शीघ्र गिरफ्तारी का आश्वासन दिया। इसके बाद परिजनों ने जाम खोला।

दहेज के लिए करते थे परेशान

निसिग के वार्ड एक निवासी कृष्ण कुमार ने करीब तीन साल पहले अपनी बेटी ज्योति की शादी प्यौंत निवासी संजय के साथ की थी। आरोप है कि दहेज की मांग को लेकर अक्सर ससुराल पक्ष के लोग उसकी बेटी को तंग करते थे। जिसको लेकर कई बार पंचायत फैसले भी हुए। पिता ने बताया कि मंगलवार को उसकी बेटी का शव घर के एक कमरे में पंखे की हुक में लटका मिला। सूचना पाकर पुलिस ने एफएसएल की टीम को मौके पर बुलाया। उन्होंने पति, सास व दो देवरों को हत्या का दोषी हठराते हुए पुलिस को शिकायत दी। इसके बाद बुधवार को पोस्टमार्टम किया गया। जाम में फंसे रहे वाहन

कैथल रोड पर लगे जाम के दौरान कुछ देर में सड़क के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतारे लग गई। पुलिस ने जाम में फंसे वाहनों को दूसरे रास्तों से निकाला। बावजूद भी दर्जनों वाहन जाम में फंसे रहे। पौने पांच बजे जाम खुलने के बाद वाहन चालकों ने राहत की सांस ली। जाम को बढ़ता देख डीएसपी ने एसएचओ असंध जगबीर सिंह एसएचओ करनाल बलजीत सिंह व महिला सैल से पुलिसकर्मी कविता देवी के साथ भी कई अन्य पुलिसकमिर्यो को बुलाया। गाड़ी के आगे अड़ी मां

डीएसपी द्वारा समझाने के बाद जब जाम खोलने लगे तभी मृतका ज्योति की मां व कई अन्य महिलाएं गाड़ी के आगे बैठ गई। ताकि सड़क से गाड़ी हटाकर कोई जाम ना खोल सके। उन्होंने जाम खोलने से पहले दोषियों को गिरफ्तार करने की मांग की।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप