जागरण संवाददाता, करनाल: डीसी निशांत कुमार यादव ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव 17 से 25 दिसंबर तक कुरुक्षेत्र में मनाया जाएगा। इसके अलावा करनाल जिले के सभी तीर्थों पर भी गीता जयंती महोत्सव मनाया जाएगा। महोत्सव के लिए गीता पर आधारित आनलाइन सेमिनार व गोष्ठियां आयोजित की जाएंगी। कुरूक्षेत्र से ही तीर्थ स्थलों पर आरती, ग्लोबल चैंटिग व अन्य कार्यक्रमों का सीधा प्रसारण किया जाएगा।

वीरवार को राज्यपाल की सचिव जी. अनुपमा गीता जयंती महोत्सव के आयोजन के बारे में वीसी के माध्यम से प्रशासनिक अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दे रही थीं। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव को कोविड-19 के चलते आनलाइन वेबिनार के माध्यम से मनाया जाएगा। गीता जयंती महोत्सव 48 कोस के अंतर्गत आने वाले सभी 134 तीर्थों पर मनाया जाएगा।

उन्होंने बताया कि जिला स्तर पर उपायुक्त के दिशा-निर्देशानुसार महोत्सव मनाया जाना है। मुख्य कार्यक्रम कुरूक्षेत्र के ब्रह्मसरोवर पर आयोजित किए जाएंगे। सभी कार्यक्रम वेबिनार से आयोजित किए जाएंगे। सभी कार्यक्रम कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में आयोजित होंगे और गीता पाठ 21 से 26 दिसम्बर तक ज्योतिसर में होगा। 24 दिसंबर को कुरूक्षेत्र विश्वविद्यालय में संत सेमिनार होगा और 25 दिसंबर को गीता ग्लोबल चैंटिग ऑनलाइन आयोजित होगी। ब्रह्मसरोवर पर दीपदान का आयोजन पुरूषोत्तमपुरा बाग में किया जाएगा।

डीसी ने बताया कि गीता महोत्सव को भव्य बनाने के लिए सभी आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए हैं। जिले में एडीसी वीना हुडा को नोडल बनाया गया है। सभी स्कूलों से 50 बच्चों को शामिल किया जाएगा। जिले में यह कार्यक्रम वर्चुअल किया जाएगा। सभी तीर्थों पर एलईडी स्क्रीन लगाई जाएगी ताकि आरती व अन्य चैंटिग कार्यक्रम आम जनता भी देख सके। इस अवसर पर सीटीएम विजया मलिक भी उपस्थित रहीं।

Edited By: Jagran