संवाद सहयोगी, घरौंडा: बसताड़ा टोल पर किसानों का प्रदर्शन तीसरे दिन भी चला। किसानों ने एलान कर दिया कि जब तक सरकार तीनों कानून रद नहीं करती, तब तक सभी टोल फ्री रहेंगे और धरना अनिश्चितकाल रहेगा। इधर, किसानों के तीन दिन से टोल पर कब्जे के चलते सभी वाहन फ्री चलने से करीब दो करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है।

धरने पर बैठे किसानों ने नारेबाजी की। किसानों ने कहा कि केंद्र सरकार को किसानों की मांगें पूरी करनी चाहिए। भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष अजय राणा ने एक दिन का उपवास रखा। अजय ने कहा कि किसानों ने तीन दिन के लिए टोल फ्री करने का एलान किया था, लेकिन सरकार ने मांगों की ओर ध्यान नही दिया। इसलिए किसानों को सभी टोल अनिश्चितकालीन के लिए फ्री करने का एलान करना पड़ा है। धरने पर प्रतिदिन भूख हड़ताल चलेगी। सोमवार को आठ किसान भूख हड़ताल पर रहेंगे।

मर्दानी फाउंडेशन की महिलाओं ने खून भरा बैनर टोल पर किसानों को सौपा और दिल्ली तक कोर कमेटी के पास भेजने का आग्रह किया। फाउंडेशन की सदस्य सपना राणा ने केंद्र और प्रदेश सरकार की आलोचना की।

21 सदस्यीय कमेटी का गठन

किसानों ने आगामी रणनीति तैयार करने के लिए पांच सदस्यीय कमेटी को बढ़ाकर 21 सदस्यीय कमेटी का गठन कर दिया है। कमेटी के अध्यक्ष सतपाल चहल ने बताया कि सयुंक्त कमेटी के आदेशानुसार कमेटी बनाई जा रही है। आगे की प्रक्रिया के संदर्भ में कमेटी चर्चा करेगी। वहीं, टोल अधिकारियों ने बताया कि टोल से प्रतिदिन 40 हजार वाहन गुजरते हैं और लगभग 60 लाख रुपये का नुकसान हो रहा है। अधिकारियों ने बताया कि तीन दिन में लगभग दो करोड रुपये का नुकसान हो गया है। फिलहाल रात 12 बजे तक टोल फ्री के आदेश हैं। अब इस बाबत आगामी जैसे आदेश मिलेंगे, वह मान्य होंगे।

Edited By: Jagran