जागरण संवाददाता, करनाल : जिला जेल प्रशासन में एक बार फिर उस समय हड़कंप मच गया जब एक हवालाती ने पायजामे का फंदा बनाकर आत्महत्या करने की कोशिश की। हालांकि जेल में तैनात कर्मियों की मुस्तैदी से उसे बचा लिया गया तो तत्काल ही कल्पना चावला राजकीय अस्पताल में दाखिल कराया गया जबकि पुलिस ने उसके खिलाफ आत्महत्या का प्रयास करने के आरोप में केस भी दर्ज कर लिया है।

जानकारी अनुसार कुरुक्षेत्र के लाडवा क्षेत्र में स्थित गांव खरकाली वासी मंदीप उर्फ गट्टू के खिलाफ रादौर जिला यमुनानगर पुलिस ने जबरन वसूली व जान से मारने की धमकी देने के आरोप में 22 सितंबर को ही केस दर्ज किया था, जिसके बाद उसे गिरफ्तार भी कर लिया गया था। अगले ही दिन पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर अदालत में पेश करने के उपरांत जिला जेल में कोरोना महामारी के चलते बनाई गई विशेष जेल में हवालाती के तौर पर रखा। सुबह करीब 10 बजे बैरक नंबर चार के बाथरूम में अपने पायजामे को सरिये से बांध लिया और नाड़े का फंदा गले में डाल लिया। तभी वहां तैनात वालंटियर सुल्तान सिंह ने उसे देख लिया और अन्य कर्मियों को तत्काल वहां बुलाया, जिसके बाद उसे बचा लिया गया।

घटना की सूचना तत्काल ही जेल अधिकारियों को दी गई और अधीक्षक अमित कुमार भादों, डीएसपी अशोक कुमार भी मौके पर पहुंचे तो आरोपित को तत्काल ही कल्पना चावला राजकीय अस्पताल में दाखिल कराया गया। वहीं इसके बाद में डीएसपी अशोक कुमार की शिकायत पर आरोपित के खिलाफ आत्महत्या का प्रयास करने के आरोप में थाना रामनगर पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। जेल अधीक्षक अमित कुमार का कहना है कि कर्मियों की मुस्तैदी से आरोपित को समय रहते बचा लिया गया। फिलहाल उसकी स्थिति ठीक है। जेल से फरार हुए हवालाती का एक सप्ताह बाद भी सुराग नहीं

विशेष जेल से ही फरार हुए हवालाती का पुलिस एक सप्ताह बाद भी सुराग नहीं लगा पाई है। हालांकि पुलिस उसे जल्द काबू कर लिए जाने के दावे घटना के पहले दिन से ही कर रही है। बता दें कि कुरुक्षेत्र के धोबी मोहल्ला वासी दीपक को एक घर में घुसकर नाबालिग के साथ छेड़छाड़ के आरोप में पोक्सो एक्ट के तहत गिरफ्तार किया था, जिसे लेकर कुरुक्षेत्र पुलिस करनाल जेल में 20 सितंबर को पहुंची थी। उसे विशेष जेल में रखा हुआ था कि दो दिन बाद ही रात साढ़े 12 बजे वह जंगला तोड़कर फरार हो गया था। हालांकि जेल अधीक्षक ने लापरवाही बरते जाने पर हेड वार्डन सतप्रकाश व वार्डन राकेश को सस्पेंड कर दिया था तो वहीं रामनगर थाना पुलिस ने आरोपित के खिलाफ केस दर्ज कर उसकी तलाश शुरू की थी, लेकिन पुलिस उसे तलाश नहीं कर पाई।

Edited By: Jagran