जागरण संवाददाता, करनाल : अपने करनाल प्रवास के दौरान गृहमंत्री अनिल विज इस वर्ष पद्मश्री पुरस्कार के लिए चयनित वरिष्ठ पशुधन विज्ञानिक सेवानिवृत्त डा. मोतीलाल मदन सहित कई लोगों से मिले। इस दौरान उन्होंने विविध अनुभव भी साझा किए।

राष्ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्थान सहित विभिन्न शिक्षण संस्थानों में सेवाएं दे चुके डा. मोतीलाल का नाम पशु विज्ञान के क्षेत्र में विश्व को पहला आइवीएफ बछड़ा प्रथम देने के लिए भी जाना जाता है। उनके निवास पहुंचे गृहमंत्री अनिल विज ने कहा कि ऐसी रिसर्च की बदौलत देश पशुपालन में तरक्की कर रहा है। डा. मदन ने अपना पुरस्कार सभी अनुसंधानकर्ताओं को समर्पित करते हुए कहा कि भारत में कृषि और पशुधन रोजगार का बड़ा साधन है। इस क्षेत्र में विकास की अपार संभावनाएं हैं।

राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेता आकर्ष को सराहा

करनाल प्रवास में गृहमंत्री अनिल विज ने प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेता आकर्ष कौशल व अभिभावकों को भी बधाई देते हुए कहा कि कोविड की पहली लहर के दौरान लोगों को आरटीपीसीआर की रिपोर्ट उपलब्ध नहीं होती थी। इसके लिए आकर्ष ने करनाल कोविडडाटकाम पोर्टल बनाया। यह प्रोजेक्ट प्रदेश के अन्य जिलों में भी काम आया।

गुरु से लिया आशीर्वाद

गृहमंत्री अनिल विज ने अपने कालेज के समय के अध्यापक रहे डा. गोपाल कृष्ण के घर जाकर उनसे आशीर्वाद लिया। डा. गोपाल कृष्ण ने अंबाला कालेज में वर्तमान में गृहमंत्री को पढ़ाया था। इसके साथ ही गृहमंत्री ने हरियाणा योग आयोग के चेयरमैन डा. जयदीप आर्य के निवास स्थान पर पहुंचकर गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी और परिवार के साथ बैठे। इसके अलावा विज सीएम के करनाल-कुरुक्षेत्र मीडिया कोर्डिनेटर जगमोहन आनंद के घर भी गए।

Edited By: Jagran