संवाद सहयोगी, घरौंडा : राष्ट्रीय राजमार्ग पर राजेंद्रा ढाबा के सामने एक कार पहले से खड़े एक ट्रक से टकरा गई। सड़क दुर्घटना में कार में सवार पिता-पुत्र की मौत हो गई।

रविवार दोपहर बाद लगभग अढ़ाई बजे एक कार दिल्ली से करनाल की तरफ जा रही थी। कार में यमुनानगर निवासी कार चालक विशाल कुमार (42 वर्ष) और उसके पिता चंद्रमोहन (80 वर्ष) सवार थे। जैसे ही कार घरौंडा नेशनल हाईवे पर राजेंद्रा ढाबे के पास पहुंचीं तो कार का संतुलन बिगड़ा और खड़े ट्रक से टकरा गई। हादसा इतना जबरदस्त था कि कार के परखचे उड़ गए। हादसे में बुजुर्ग चंद्रमोहन की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि कार चालक गंभीर रूप से घायल हो गया। थाना प्रभारी सचिन कुमार पुलिस के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। पुलिस ने एंबुलेंस से घायल विशाल को घरौंडा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। अस्पताल के डॉक्टरों ने विशाल की हालत नाजुक देखते हुए उसके करनाल के कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज में रेफर कर दिया। यहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। कार में फंसा बुजुर्ग का शव

नेशनल हाईवे पर हुए इस दर्दनाक हादसे में कार बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई। क्षतिग्रस्त कार में बुजुर्ग चंद्रमोहन का शव फंस गया। पुलिस ने मशक्कत के बाद क्रेन से शव को बाहर निकाला। मरने के बाद भी दुनिया देख सकेंगी उनकी आंखें

हादसे में मृत पिता चंद्रमोहन और बेटे विशाल की आंखें दुनिया देख सकेंगी। मृतक चंद्रमोहन के दूसरे बेटे राहुल कोहली ने नेत्रदान करने का निर्णय लिया। पोस्टमार्टम के दौरान ही माधव नेत्र बैंक की ओर से समाजसेवी राजकुमार ने कार्रवाई पूरी की। इस दुखदायी घड़ी में भी राहुल ने खुद को संभाला और यह महत्वपूर्ण फैसला भी किया। कार हाईवे पर खड़े ट्रक में टकराई थी। कार में सवार कार चालक विशाल और उसके पिता चंद्रमोहन की मौत हो गई है। क्षतिग्रस्त कार और ट्रक को कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है।

-इंस्पेक्टर सचिन कुमार, थाना प्रभारी घरौंडा

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran