जागरण संवाददाता, करनाल :

जिला की विभिन्न मंडियों में अब तक 93 प्रतिशत धान की आवक हो चुकी है। इसमें 90 प्रतिशत धान की खरीद कर ली गई है। शेष 10 प्रतिशत अगले एक-दो दिन में खरीद लिया जाएगा। जहां तक किसानों को धान की अदायगी की बात है, अगले एक सप्ताह में अनुमानित कुल 2 हजार करोड़ रुपये की पेमेंट में से 80 से 90 प्रतिशत पेमेंट कर दी जाएगी। उन्होंने बताया कि इस बार मंडियों में आढ़ती, मिलर एसोसिएशन तथा सामाजिक व धार्मिक संस्थाओं के माध्यम से किसानों व मजदूरों की सुविधा के लिए फूड स्टाल लगवाए गए। दो-तीन जगहों पर अटल कैंटीन के जरिए निशुल्क भोजन भी उपलब्ध करवाया गया। डीसी निशांत कुमार यादव बुधवार को लघु सचिवालय के सभागार में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कोरोना के मामलों को लेकर कहा कि जिले में पिछले 25 दिन से कोरोना का ग्राफ गिरा है।

जिले में धान का रकबा ज्यादा, इसलिए अवशेष जलाने के मामले भी ज्यादा आ रहे हैं।

फसल कटाई के बाद खेतों में बचे अवशेषों को आग लगाने से रोकने के लिए जिला प्रशासन द्वारा किए गए उपायों की जानकारी देते हुए डीसी ने बताया कि करनाल चूंकि धान उत्पादन का प्रमुख जिला है। इस बार भी करीब तीन लाख एकड़ में धान की फसल ली गई है। इसे देखते हुए यहां खेतों में आग लगाने के मामले हो जाते हैं। फिर भी प्रशासन की कोशिश रहती है कि ऐसे मामले ना हो। उन्होंने बताया कि इस प्रवृति पर रोक लगाने के लिए जिले में एडवांस फार्मिग के तहत किसानों को कृषि मशीनरी की खरीद पर सब्सिडी दी गई। 100 से अधिक कस्टम हायरिग सेंटरों की स्थापना के अतिरिक्त करीब 100 पंचायतों को फसल अवशेष प्रबंधन के लिए हैप्पी सीडर जैसे कृषि यंत्र निशुल्क दिए गए। जिले को मिली 54 करोड़ की सौगात

डीसी ने बताया कि हरियाणा सरकार के द्वितीय कार्यकाल का एक वर्ष पूरा हो गया है। इस उपलक्ष्य में मुख्यमंत्री ने वीसी के माध्यम से करनाल जिला में करीब 54 करोड़ रूपये के 11 प्रोजेक्ट का उद्घाटन एवं शिलान्यास किया, इनमें 30 करोड़ के शिलान्यास, 24 करोड़ की राशि के कार्यों के उद़्घाटन शामिल हैं। वहीं एक नवंबर को हरियाणा दिवस पर शहर के कर्ण स्टेडियम में खेल प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएगी, जिसमें मार्च पास्ट सहित कई प्रतियोगिताएं होंगी। सीएम मनोहर लाल खेल प्रतियोगिता में बतौर मुख्यातिथि शामिल होंगे। स्मार्ट सिटी के 15 प्रोजेक्ट चढ़ रहे सिरे

डीसी निशांत यादव ने बताया कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में शामिल एक महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट एलईडी लाइट का है। इसके तहत शहर में 25 हजार स्मार्ट एलईडी लाइट लगाई जाएंगी। खास बात यह है कि इस प्रोजेक्ट से शहर में कहीं भी ब्लैक स्पॉट नहीं रहेगा। निश्चित तौर पर हर कोने में रोशनी होगी। दीवाली से पूर्व इस पर काम शुरू हो सकता है। लाइटों में किसी भी तरह की तकनीकी फाल्ट के लिए अलर्ट शहर के सेक्टर-12 स्थित नगर निगम के नए भवन में बनाए गए आइसीसीसी में जाएगा। मेंटेनेंस को लेकर संबंधित एजेंसी पर पैनल्टी का भी प्रावधान है। सफाई करने वालों को पैरोल पर लिया गया है और संसाधनों में वृद्धि की जा रही है, 40 नये टिप्पर सफाई साधनों में शामिल कर रहे हैं। सुपर सकर मशीन और ट्रैक्टर लोडर भी खरीदे जा रहे है। शहर के नौ स्कूलों में बनाए जा रहे 53 स्मार्ट क्लास रूम शहर के नौ भिन्न-भिन्न सरकारी स्कूलों में 53 क्लास रूम बनाए जा रहे है, यह कार्य आगामी 15 नवंबर तक पूरा होगा। तैयार क्लास रूम को शिक्षा विभाग को हैंडओवर किया जाएगा। शहर के शेष सरकारी स्कूलों में भी स्मार्ट क्लास रूम बनाए जाएं। अन्य स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत शहर में 50 रेन वाटर हार्वेस्टर बनाए जाएंगे, नवम्बर अंत तक यह कार्य पूरा होगा। 11 सड़कें बनेंगी यातायात अनुकूलित

डीसी ने कहा कि अग्रसेन चौक से बलड़ी बाईपास तक वाकिग जोन घोषित किया गया है। इसमें डेडिकेटिड साइकिल ट्रैक के अतिरिक्त टॉयलेट म्यूजिक सिस्टम लाइटें और महाभारत थीम पर पेंटिग करवाई जाएगी। शहर की 11 सड़ाकों को यातायात अनुकूलित बनाया जा रहा है। पश्चिमी यमुना नहर के किनारे पर वार्किंग जोन बनाया जा रहा है। इसके दोनों ओर के करीब दो किलोमीटर पटरी पर दोनों ओर रेलिग, टाईलिग, साईकिल ट्रैक, बेंच, सजावटी लाइटें, शौचालय और म्यूजिक सिस्टम की व्यवस्था की जाएगी। एनएच पर झिलमिल ढाबे से लेकर मधुबन तक करीब 7 फ्लाईओवर का सौंदर्यकरण किया जाएगा।

Edited By: Jagran